भारत और EU ने साइन किया न्यूक्लियर कोऑपरेशन एग्रीमेंट, 13 साल से चल रही थी बातचीत

यूरोपियन एटोमिक एनर्जी कम्यूनिटी या यूरोटोम और भारतीय अधिकारियों (Euratom and Indian) के बीच हुए समझौते का मुख्य उद्देश्य परमाणु ऊर्जा (Atomic Energy) के इस्तेमाल के क्षेत्र में रिसर्च प्रोग्राम्स का सहयोग शामिल है.
India and EU sign nuclear cooperation agreement after 13 years talks, भारत और EU ने साइन किया न्यूक्लियर कोऑपरेशन एग्रीमेंट, 13 साल से चल रही थी बातचीत

भारत और यूरोपीय संघ (EU) ने वर्चुअल शिखर सम्मेलन से पहले परमाणु सहयोग समझौते (civil nuclear cooperation agreement) पर हस्ताक्षर किए हैं. वहीं यूरोपोल और सीबीआई (Europol-CBI) संगठित अपराध और आतंकवाद से निपटने के लिए कार्य व्यवस्था बनाने पर बातचीत कर रहे हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

यूरोपियन एटोमिक एनर्जी कम्यूनिटी ( European Atomic Energy Community ) या यूरोटोम और भारतीय अधिकारियों के बीच हुए समझौते का मुख्य उद्देश्य परमाणु ऊर्जा के इस्तेमाल के क्षेत्र में रिसर्च प्रोग्राम्स (research programmes) का सहयोग शामिल है.

यूरोपीय संघ के एक अधिकारी ने कहा कि यह समझौता परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण इस्तेमाल के लिए रिसर्च और विकास के सहयोग पर आधारित है. इस सहयोग को लेकर 13 साल से बातचीत की जा रही थी और अब इसे पूरा कर लिया गया है.इससे शिखर सम्मेलन के कार्यक्रम को और मजबूती मिलेगी.

वैश्विक संस्थानों को मजबूत करने पर ध्यान

भारत-यूरोपीय संघ शिखर सम्मेलन, बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi), यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स मिशेल और यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन द्वारा सह-अध्यक्षता में आयोजित होगा. उम्मीद की जा रही है कि इस शिखर सम्मेलन के जरिए बहुपक्षवाद और वैश्विक संस्थानों को मजबूत करने पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा.

आतंकवाद से निटपटने के लिए एकजुट

यूरोपीय संघ के अधिकारियों ने कहा कि दोनों पक्षों के नेतृत्व शिखर सम्मेलन के जरिए सभी रूपों में आतंकवाद से निपटने के लिए अपनी मजबूत प्रतिबद्धता को दोहरा सकते हैं. यूरोपीय यूनियन एजेंसी फॉर लॉ एनफोर्समेंट कोऑपरेशन या यूरोपोल और सीबीआई एक ऐसी व्यवस्था पर बातचीत कर रहे हैं जो संगठित अपराध और आतंक को रोकने और मुकाबला करने के लिए यूरोपीय संघ के सदस्य देशों और भारत के कानून प्रवर्तन अधिकारियों का समर्थन करेगी.

LAC की घटना चिंता का विषय

भारत-चीन सीमा गतिरोध के बारे में विशेष रूप से पूछे जाने पर, यूरोपीय संघ के अधिकारियों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर हाल की घटनाओं को काफी चिंता का विषय बताया. अधिकारियों ने कहा, “हम यह देखकर खुश हैं कि एलएसी पर घातक झड़पें होने के बावजूद दोनों पक्षों ने संयम दिखाने, सेना को हटाने और बातचीत में शामिल होने के लिए प्रतिबद्धता जाहिर की.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts