चीन की सीमा से लगे अरुणाचल प्रदेश के गांव में सेना ने दी मुफ्त में फोन कनेक्टिविटी

रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल पी खोंगसई ने कहा कि मैगो-चूना के दूरदराज के क्षेत्रों में संचार सुविधा नहीं है, वहां टेलीफोन कनेक्टिविटी (Telephone Connectivity) 28 किलोमीटर दूर है.

भारतीय सेना ने चीन के सीमावर्ती अरुणाचल प्रदेश के पूर्वी कामेंग जिले (Kameng District) के मागो-चूना के दूरदराज गांव के ग्रामीणों के लिए मुफ्त में मोबाइल (Mobile) टेलीफोन बूथ स्थापित किया है. रक्षा सूत्रों ने यह जानकारी शनिवार को दी. जीएसएम के (ग्लोबल सिस्टम फॉर मोबाइल कम्यूनिकेशन) पब्लिक कॉल ऑफिस (पीसीओ) ने स्थापित किया, ताकि लोग अपनी जरुरतों के हिसाब से दूसरों के साथ बातचीत कर सकें.

रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल पी खोंगसई ने कहा कि मैगो-चूना के दूरदराज के क्षेत्रों में संचार सुविधा नहीं है, वहां टेलीफोन कनेक्टिविटी (Telephone Connectivity) 28 किलोमीटर दूर है. उन्होंने कहा कि टेलीफोन कनेक्टिविटी न होने के कारण यहां के समाजिक जीवन को बढ़ावा देने में समस्या होती थी. इस सुविधा की उपलब्धता से खुशी हुई है, इससे अवसर के कई नए रास्ते खुलेंगे.

अरुणाचल से लगी सीमा पर चीन की साजिश का भंडाफोड़

दूसरी ओर, अरुणाचल प्रदेश से लगी सीमा पर चीन की नई साजिश का भंडाफोड़ हुआ है. अरुणाचल प्रदेश के पास चीन ने एलएसी (LAC) पर 6 इलाकों में पीएलए सैनिकों की तैनाती बढ़ाई है. भारतीय सेना चीन की चुनौती का जवाब देने के लिए तैयार है. भारतीय सेना ने चीन से सटे 1962 के युद्ध के समय के ‘6 विवादित इलाकों’ और ‘4 संवेदनशील इलाकों’ में सतर्कता बढ़ाई है.

Related Posts