अरब सागर में आज से भारत-जापान का तीन दिन का नौसैनिक अभ्यास, सैन्य सहयोग बढ़ाने पर जोर

नेवी अधिकारी ने कहा कि भारत-जापान समुद्री नौसेना अभ्यास (JIMEX-20) दोनों नौसेनाओं के बीच सहयोग और आपसी विश्वास को और बढ़ाएगा, और दोनों देशों के बीच लंबे समय तक दोस्ती के बंधन को मजबूत रखेगा.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 7:31 am, Sat, 26 September 20

चीन से जारी तनाव के बीच भारत और जापान (India-Japan) के बीच आज से उत्तरी अरब सागर में तीन दिवसीय समुद्री अभ्यास ( JIMEX-20 ) शुरू होने जा रहा है. भारतीय नौसेना के प्रवक्ता ने शुक्रवार को कहा कि भारत ने ऑस्ट्रेलिया के साथ भी हिंद महासागर में नौसैनिक अभ्यास किया था. भारत-जापान समुद्री साझा अभ्यास हर दो साल में आयोजित किया जाता है. यह इसका चौथा एडिशन है. पिछली बार यह नौसेना अभ्यास अक्टूबर 2018 में विशाखापत्तनम के तट के पास आयोजित किया गया था.

एक नेवी अधिकारी (Navy Officer) ने कहा कि भारत-जापान के बीच नौसेना सहयोग लगातार बढ़ रहा है. भारत और जापान  समुद्री अभ्यास (JIMEX-20)  में दोनों ही देश अपने कौशल का प्रदर्शन करेंगे. इस दौरान हथियारों से लैस फायरिंग, क्रॉस-डेक हेलीकॉप्टर संचालन और कॉम्पलेक्स सरफेस, पनडुब्बी रोधी और हवाई युद्ध अभ्यास किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें- भारत-ऑस्ट्रेलिया मिलकर चीन को दिखाएंगे समुद्री ताकत, आज से हिंद महासागर में नौसैनिक अभ्यास शुरू

कोविड की वजह से गैर संपर्क होगी भारत-जापान ड्रिल

भारतीय और ऑस्ट्रेलियाई नौसैनिकों ने 23-24 सितंबर को पूर्वी हिंद महासागर क्षेत्र (IOR) में एक अभ्यास किया था. जब भी मौका होता है, पूर्व नियोजित समुद्री ड्रिल के विपरीत एक अभ्यास शुरू किया जाता है. भारत-ऑस्ट्रेलियाई अभ्यासों की तरह, भारत-जापान नौसेना समुद्री अभ्यास (JIMEX-20) कोविड-19 प्रतिबंधों की वजह से ‘गैर-संपर्क-समुद्र-केवल फॉर्मेट’ में संचालित किया जा रहा है.

बयान में कहा गया है कि इस ड्रिल (Drill)  में भारत की तरफ से स्वदेशी स्टील्थ डेस्ट्रायर चेन्नई, तेग, तारक और बेड़े के टैंकर दीपक भी हिस्सा लेंगे, जबकि जापानी समुद्री नौसेना अपने युद्धपोतों- कागा और इकाज़ूकी को का इस्तेमाल करेगा, इसके साथ ही लंबी रेंज समुद्री गश्ती विमान-P8-I,जरूरी हेलीकॉप्टर और लड़ाकू जेट भी समुद्री ड्रिल में शामिल होंगे.

साझा नौसेना अभ्यास से भारत-जापान के बीच मजबूत होंगे रिश्ते

नेवी अधिकारी ने कहा कि भारत-जापान समुद्री नौसेना अभ्यास (JIMEX-20) दोनों नौसेनाओं के बीच सहयोग और आपसी विश्वास को और बढ़ाएगा और दोनों देशों के बीच लंबे समय तक दोस्ती का बंधन को मजबूत रखेगा. भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान द्वारा 2017 के अंत में रिवाइव किए गए चतुर्भुजीय सुरक्षा वार्ता और क्वाड से चीन भी सावधान हो गया है और पिछले साल चार देशों के फोरम को अपग्रेड करने के बाद से ये संदेह और बढ़ गए हैं.

ये भी पढ़ें- दुनिया के सबसे बड़े युद्धपोत USS निमित्ज के साथ भारतीय नौसेना ने किया सैन्य अभ्यास

नौसेना हिंद महासागर में एक ऑपरेशनल अलर्ट पर है, जहां युद्धपोतों के स्कोर लद्दाख सेक्टर में चीन से सीमा विवाद के बाद किसी भी कार्रवाई के लिए तैयार हैं. भारत ने अपने युद्धपोतों को महत्वपूर्ण समुद्री लेन संचार और चोक पॉइंट के साथ तैनात किया है, और जहाजों को भी किसी भी मिशन के लिए पूरी तरह तैयार रखा गया है. भारतीय युद्धपोतों को फ़ारस की खाड़ी से लेकर मलक्का जलडमरूमध्य और बंगाल की उत्तरी खाड़ी से लेकर दक्षिण-पूर्वी तट तक तैनात किया गया है.