भारतीय कर्मचारियों के साथ हुए बर्ताव के बाद पाकिस्तान में राजनयिक उपस्थिति कम कर सकता है भारत

दिल्ली में पाकिस्तान पर नजर रखने वालों का कहना है कि भारतीय हाई कमीशन के अधिकारी इस डर से मिशन से बाहर नहीं जा सकते कि उन्हें अगवा किया जा सकता है. इसके उलट दिल्ली में पाकिस्तानी अधिकारी स्वतंत्र रूप से घूम रहे हैं.
India may reduce diplomatic presence in Pakistan, भारतीय कर्मचारियों के साथ हुए बर्ताव के बाद पाकिस्तान में राजनयिक उपस्थिति कम कर सकता है भारत

भारत ने इस्लामाबाद स्थित भारतीय हाई कमीशन के दो कर्मचारियों के सोमवार को हुए अपहरण और उन्हें यातना दिए जाने की घटना के बाद पाकिस्तान में अपनी राजनयिक उपस्थिति को कम करने पर विचार किया है. इस मामले से अवगत अधिकारियों ने हिंदुस्तान टाइम्स को ये जानकारी दी है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

भारतीय मिशन से थोड़ी दूरी पर इस्लामाबाद के एक पेट्रोल स्टेशन से लगभग 15 हथियारबंद लोगों द्वारा दोनों कर्मचारियों का अपहरण कर लिया गया था, जिन्हें घंटों तक टॉर्चर किया गया और रिहा होने से पहले उनपर एक्सिडेंट का आरोप लगा दिया गया. रिहा होने के बाद उनके गर्दन, चेहरे, जांघों और पीठ पर चोट के निशान मिले. नई दिल्ली ने अपने कर्मचारियों के अपहरण और टॉर्चर पर औपचारिक रूप से प्रतिक्रिया नहीं दी है.

भारतीय कर्मचारियों से जबरन रिकॉर्ड कराए स्क्रिप्टेड बयान

हालांकि अगवा हुए दोनों कर्मचारियों ने भारतीय हाई कमीशन के सामने उनके साथ हुए टॉर्चर, जबरन स्क्रिप्टेड बयान रिकॉर्ड करवाने और धमकी देने के बारे में विस्तार से बताया. एक सरकार से जुड़े सूत्र ने कहा, “अपहरणकर्ता, जिन्हें हम मानते हैं कि वे पाकिस्तान के ISI से थे, बार-बार उन्हें कह रहे थे कि भविष्य में अन्य अधिकारियों के साथ ऐसा ही किया जाएगा.”

सरकार से जुड़े सूत्र ने बताया कि अगर पाकिस्तान की सरकार भारतीय राजनयिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए वियना कन्वेंशन के तहत अपनी प्रतिबद्धता को पूरा नहीं कर सकती है, तो भारतीय राजनयिक संभवतः अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन नहीं कर सकते. ऐसी परिस्थितियों के तहत, यह विचार करना स्वाभाविक है कि क्या भारत को वहां मौजूद लोगों की उपस्थिति को कम करना चाहिए.

हाई कमीशन के बाहर नहीं निकल पाते भारतीय कर्मचारी

इसके अलावा, दिल्ली में पाकिस्तान पर नजर रखने वालों का कहना है कि भारतीय हाई कमीशन के अधिकारी इस डर से मिशन से बाहर नहीं जा सकते कि उन्हें अगवा किया जा सकता है. इसके उलट दिल्ली में पाकिस्तानी अधिकारी स्वतंत्र रूप से घूम रहे हैं, उनमें से कुछ तो खुफिया जानकारी पाने के लिए लोगों को फंसा भी रहे हैं. उनमें से दो को 31 मई को जासूसी के लिए वापस पाकिस्तान भेज दिया गया था.

भारत ने पाकिस्तान के समक्ष विरोध दर्ज कराया

पाकिस्तान हाई कमीशन के अधिकारी हैदर शाह को आज भारतीय विदेश मंत्रालय ने तलब किया और पाकिस्तान सुरक्षा एजेंसियों द्वारा इस्लामाबाद में भारत के हाई कमीशन के दो अधिकारियों के अपहरण और यातना के मुद्दे पर एक मजबूत विरोध दर्ज कराया गया.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts