Navy Day : शूरवीरों को देश कर रहा सलाम, जानें क्यों मनाया जाता है नौसेना दिवस?

1971 की जंग में भारतीय नौसेना ने पाकिस्तान के कराची बंदरगाह को बर्बाद कर दिया था, जिसे 'ऑपरेशन ट्राइडेंट' के नाम से जाना जाता है.

हर साल 4 दिसंबर को भारत में नौसेना दिवस मनाया जाता है. आज वहीं दिन है जब नौसेना दिवस पर नेवी के वीर जवानों को याद किया जाता है. नौसेना दिवस के मौके पर देश के कई हिस्सों में कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं. दिल्ली में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने शहीदों को माला अर्पित की.

इंडियन नेवी दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी नेवी मानी जाती है. वहीं ट्विटर पर Indian Navy Day ट्रेंड कर रहा है. इसके जरिए लोग नेवी के कारनामों को सैल्यूट कर रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी नेवी डे पर देश की शान में सरहद पर मुस्तैद जवानों को नमन किया.

एक वीडियो ट्विटर पर शेयर करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “नौसेना के बहादुर जवानों को सलाम. नौसेना की सेवा, शहादत ने देश को मजबूत किया है.”

क्यों मनाया जाता है कि नौसेना दिवस?

आज नौसेना के वीरों को सलाम करने का दिन है. 1971 से हर साल 4 दिसंबर को नौसेना के शूरवीरों के सम्मान में नौसेना दिवस मनाया जाता है. आज नौसेना के शहीदों के योगदान को याद किया जा रहा है.

1971 की जंग में भारतीय नौसेना ने पाकिस्तान के कराची बंदरगाह को बर्बाद कर दिया था, जिसे ‘ऑपरेशन ट्राइडेंट’ के नाम से जाना जाता है. नौसेना के इसी साहसी ऑपरेशन के बाद 4 दिसंबर को नौसेना दिवस मनाया जाता है.

‘ऑपरेशन ट्राइडेंट’, पाकिस्तान के नेवी हेडक्वार्टर को निशाने पर लेकर शुरू किया गया था. भारतीय नौसेना द्वारा यहां रात में हमला करने की योजना बनाई गई थी, क्योंकि पाकिस्तान के पास ऐसे युद्ध विमान नहीं थे, जो कि रात के अंधेरे में युद्ध का सामना कर सकें.

 

ये भी पढ़ें-  पृथ्‍वी-2 का दूसरा टेस्‍ट भी सफल, 350KM दूर टारगेट उड़ाने वाली मिसाइल में जानें क्‍या है खास

मोबाइल कंपनी को ढाई साल में कर डालीं 24 हजार कॉल्‍स, पुलिस ने 71 साल के बुजुर्ग को किया अरेस्‍ट