‘कराची में बंद पड़े हमारे दूतावास में दोबारा कोई घुसना नहीं चाहिए’, भारत ने पाकिस्‍तान को चेताया

कुछ लोगों का एक समूह जबरन परिसर में घुस आया और वहां तैनात निजी गार्ड्स को धमकाया.

नई दिल्‍ली: भारत ने पाकिस्‍तान के कराची स्थित बंद पड़े दूतावास में घुसने की कोशिश पर नाराजगी जाहिर की है. विदेश मंत्रालय ने पाकिस्‍तान के डिप्‍टी हाई कमिश्‍नर हैदर शाह को अपने विरोध से अवगत करा दिया है. भारत ने कहा है कि इस प्रॉपर्टी पर अवैध कब्‍जे को पूरी तरह खत्‍म किया जाए.

एक डिप्‍लोमेटिक नोट में भारत ने बुधवार (3 जुलाई) रात को हुई घटना का जिक्र किया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कुछ लोगों का एक समूह जबरन परिसर में घुस आया और वहां तैनात निजी गार्ड्स को धमकाया. भारत ने इसे ‘गंभीर वाकया’ बताते हुए यह सुनिश्चित करने को कहा है कि ऐसी घटना दोहराई न जाए.

कराची के सबसे प्रतिष्ठित इलाकों में से एक, फातिमा जिन्‍ना रोड पर स्थित यह दूतावास 1994 में बंद कर दिया गया था. कहा जाता है कि कराची में 1993 मुंबई बम धमाकों की साजिश रची गई और पाकिस्‍तान की सेना ये नहीं चाहती थी कि भारतीय डिप्‍लोमेट वहां पर मौजूद रहें.

अब इस इमारत का रखरखाव ठीक से नहीं होता. पड़ोसी बिल्डिंग में उग आए पेड़ों और आवारा कुत्‍तों की शिकायत करते हैं. कई बार नशेड़‍ियों के भी अंदर घुसने की बात सामने आई है.

ये भी पढ़ें

ICC ने कर दिया ऐसा ट्वीट, बौरा गए पाकिस्‍तान के क्रिकेट फैन्‍स

‘दाऊद इब्राहिम कराची में छिपा बैठा है’, अमेरिका ने खोल दी पाकिस्‍तान की पोल