Kartarpur panel, करतारपुर कॉरिडोर:पाकिस्‍तान की चाल का भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब, रोक दी बातचीत
Kartarpur panel, करतारपुर कॉरिडोर:पाकिस्‍तान की चाल का भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब, रोक दी बातचीत

करतारपुर कॉरिडोर:पाकिस्‍तान की चाल का भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब, रोक दी बातचीत

भारत ने पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त को तलब कर पाकिस्तान से अपना रुख साफ करने को कहा.
Kartarpur panel, करतारपुर कॉरिडोर:पाकिस्‍तान की चाल का भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब, रोक दी बातचीत

नई दिल्ली: करतारपुर कॉरिडोर को लेकर पाकिस्तान की तरफ से बनाई गई कमेटी में विवादित खालिस्तानी अलगाववादियों हमदर्द गोपाल सिंह चावला और बिशन सिंह को शामिल किए जाने को लेकर भारत ने सख्त रुख अपनाया है.

भारत ने इसे लेकर पाकिस्तान से जवाब मांगा है और दो टूक कहा है कि जब तक पड़ोसी देश जवाब नहीं देता, तब तक करतारपुर कॉरिडोर को लेकर दोनों देशों के बीच अगले चरण की बातचीत नहीं होगी. भारत ने शुक्रवार को पड़ोसी देश के डिप्टी हाई कमिश्नर को भी तलब किया और अपनी चिंताओं से अवगत कराया.

सरकार के सूत्रों ने कहा कि गोपाल सिंह चावला, जिनके कथित तौर पर लश्कर-ए-तैयबा के सह-संस्थापक और आतंकी मास्टरमाइंड हाफिज सईद से भी करीबी संबंध हैं, पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (PSGPC) की विशेष 10-सदस्यीय समिति में शामिल हैं. विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत ने उन रिपोर्टों पर स्पष्टीकरण मांगा है, जिनमें विवादास्पद तत्वों को करतारपुर कॉरिडोर से संबद्ध करने के लिए पाकिस्तान द्वारा एक समिति नियुक्त की गई है.

दो अप्रैल को थी मीटिंग
विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी बयान के मुताबिक पाकिस्तान से कह दिया गया है कि कॉरिडोर के तौर-तरीकों को लेकर दोनों देशों के बीच होने वाली बैठक पाकिस्तान का जवाब मिलने के बाद किसी उचित वक्त पर आयोजित हो सकती है. दोनों देशों के बीच अगले चरण की बातचीत वाघा बॉर्डर पर 2 अप्रैल को होनी थी.

सरकारी सूत्रों ने समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा, ‘सुरक्षा में कोई चूक नहीं हो सकती है. भारत को उम्मीद है कि पाकिस्तान सुरक्षा चिंताओं को दूर करेगा. एक बार सुरक्षा पहलू साफ हो जाने के बाद और हमें संतोषजनक प्रतिक्रिया मिलती है, हम चर्चा को आगे ले जाने के लिए उत्सुक हैं.’

नहीं होने देंगे अलगाववादी गतिविधियां
भारत ने करतारपुर कॉरिडोर पर अपना रुख साफ करते हुए कह दिया है कि इस प्लेटफार्म को भारत अलगाववादी गतिविधियों या प्रचार सहित भारत विरोधी गतिविधियों के लिए इस्तेमाल नहीं करने देगा. यह तीर्थयात्रियों के लिए सुरक्षित और सुरक्षित तरीके से यात्रा करने के लिए केवल एक मार्ग है. पाकिस्तान के साथ अटारी में हुई पिछली बैठक में भारत ने बकाया मुद्दों को हल करने के लिए अप्रैल के मध्य में तकनीकी विशेषज्ञों की एक और बैठक आयोजित करने का प्रस्ताव दिया था. इसका मकसद यह था कि गलियारे के अवसंरचनात्मक विकास को शीघ्रता से सुनिश्चित किया जा सके.

पिछले साल नवंबर में भारत और पाकिस्तान करतारपुर के गुरुद्वारा दरबार साहिब को गुरदासपुर जिले स्थित डेरा बाबा नानक गुरद्वारा से जोड़ने के लिए कॉरिडोर बनाने पर सहमत हुए थे.

Kartarpur panel, करतारपुर कॉरिडोर:पाकिस्‍तान की चाल का भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब, रोक दी बातचीत
Kartarpur panel, करतारपुर कॉरिडोर:पाकिस्‍तान की चाल का भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब, रोक दी बातचीत

Related Posts

Kartarpur panel, करतारपुर कॉरिडोर:पाकिस्‍तान की चाल का भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब, रोक दी बातचीत
Kartarpur panel, करतारपुर कॉरिडोर:पाकिस्‍तान की चाल का भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब, रोक दी बातचीत