कश्मीर पर चीन को भारत की दो टूक, कहा- ये हमारा आंतरिक मामला, किसी को बोलने का अधिकार नहीं

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को पेइचिंग में चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात की. चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक चिनफिंग ने कहा कि वह कश्मीर की स्थिति को देख रहे हैं.

नई दिल्ली: पाकिस्तान के निजाम इमरान खान अपने जिगरी यार चीन से मिलने पहुंचे हुए हैं. यहां इमरान अपने मुल्क की चिंता छोड़ कश्मीर राग अलापने लगे. इस मसले पर भारत ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. भारत ने सख्त लहजे से कहा है कि यह भारत का आंतरिक मामला है और किसी भी अन्य देश को इस पर बोलने का अधिकार नहीं है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बुधवार को कहा, ‘हमने चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की मुलाकात से जुड़ी रिपोर्ट देखी है, जिसमें कश्मीर पर भी उनकी चर्चा का जिक्र है. भारत का हमेशा से और स्पष्ट रुख रहा है कि जम्मू-कश्मीर हमारा अभिन्न हिस्सा है. चीन हमारे रुख से वाकिफ है. भारत के आंतरिक मामले दूसरे देशों की टिप्पणी के लिए नहीं हैं.’

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को पेइचिंग में चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात की. चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक चिनफिंग ने कहा कि वह कश्मीर की स्थिति को देख रहे हैं और पाकिस्तान के हितों से जुड़े मुद्दों पर उसका समर्थन करेंगे. शी चिनफिंग शुक्रवार को दोनों देशों के बीच अनौपचारिक शिखर बैठक के लिए भारत आने वाले हैं.

वहीं चीन उइगर मुसलमानों पर जुल्म ढाना कम नहीं कर रहा है. उइगर मुसलमानों के इतिहास को तबाह करने के बाद अब चीन उनके कब्रगाहों को भी नष्ट करने की कोशिश में जुटा है. ऐसा करने के पीछे उसका कारण है कि ये मुसलमान कभी भी अपने पूर्वजों के बारे में कुछ भी न जान सकें. यह खबर ऐसे समय पर आई है जब लाखों उइगर मुसलमानों को कैद करने को लेकर अमेरिका और चीन की आपस में ठन गई है.