भारतीय अर्थव्यवस्था 5वीं रैंक से लुढ़ककर 7वें पर पहुंची, विश्व बैंक ने जारी किए आंकड़े

जीडीपी किसी भी देश की तरक्की मालूम करने का सर्वमान्य तरीका है. भारत जीडीपी की विश्व रैंकिंग में दो पायदान गिरकर सातवें नंबर पर पहुंच गया है. जानें क्या है वजह..

जीडीपी यानि सकल घरेलू उत्पाद की वैश्विक रैंकिंग में भारत की अर्थव्यवस्था फिसलकर सातवें नंबर पर आ गई है. भारत पांचवें नंबर पर था जहां से वो दो रैंक लुढ़का है. विश्व बैंक ने वित्त वर्ष 2018 के आंकड़े जारी किए तो मालूम चला कि अब पांचवें नंबर पर ब्रिटेन है और छठे पर फ्रांस पहुंच गया है.

अमेरिकी अर्थव्यवस्था पहले ही की तरह टॉप पर है जबकि दूसरे नंबर पर चीन, तीसरे पर जापान और चौथे पर जर्मनी है. अगर बात अमेरिका की करें तो 2017 में उसकी जीडीपी 19.48 ट्रिलियन डॉलर थी जो 2018 में 20.49 ट्रिलियन डॉलर हो गई. चीन भी 2017 में 12.06 ट्रिलियन डॉलर से छलांग लगाकर 13.60 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन गया है. जापान 4.85 ट्रिलियन डॉलर से मामूली बढ़त लेकर 4.97 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बना है. ब्रिटेन जो पिछली बार भारत से पिछड़ गया था वो 2.63 ट्रिलियन से 2.82 ट्रिलियन पर पहुंचा है.

gdp, भारतीय अर्थव्यवस्था 5वीं रैंक से लुढ़ककर 7वें पर पहुंची, विश्व बैंक ने जारी किए आंकड़े

भारत ने भी मामूली बढ़त हासिल की है. वो 2.65 ट्रिलियन डॉलर के मुकाबले 2.72 डॉलर पर पहुंचा लेकिन फिर इतनी छोटी वृद्धि उसे दो पायदान गिरने से रोक नहीं सकी. अर्थशास्त्रियों का कहना है कि मुद्रा के उतार-चढ़ाव और ग्रोथ में सुस्ती की वजह से ऐसा आंकड़ा आया है. 2017 में डॉलर के मुकाबले रुपये में 3 फीसदी की मज़बूती थी जबकि 2018 में 5 फीसदी तक भारतीय रुपया टूटा.  गौरतलब है कि भारत की जीडीपी दर 2018-19 में 6.8%  रही जो 5 साल में सबसे कम थी. आर्थिक सर्वे के अनुसार बीते 5 सालों में विकास दर औसत 7.5% दर्ज की गई है.