रिकवरी के बाद कोरोना टेस्टिंग में भी देश में नया रिकॉर्ड, एक दिन में 1.2 मिलियन से ज़्यादा सैम्पल की जांच

स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) के मुताबिक ज़्यादा टेस्ट करने से मामलों की पहचान जल्दी होती है और उनका इलाज़ सही समय पर हो पाता है. ऐसे में मृत्यु दर की कमी और प्रभावी इलाज़ की संभावना बहुत बढ़ जाती है.

एक रिसर्च से पता चला है कि दूसरी बार संक्रमित होने पर कोविद -19 रोगियों को ज्यादा गंभीर लक्षण महसूस हो सकते हैं.

देश कोरोनावायरस (Coronavirus) को हराने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय की कोशिश है कि ज़्यादा से ज़्यादा टेस्टिंग के ज़रिए मामलों का पता लगाकर उनका सही इलाज़ किया जा सके. शनिवार को टेस्टिंग का आंकड़ा 1.2 मिलियन से ज़्यादा का था. ये संख्या एक दिन में टेस्टिंग का सबसे बड़ा आंकड़ा है. पिछले आठ महीनों में देश में कोविड -19 के लिए टेस्ट की संख्या 60.4 मिलियन तक पहुंच गई है. देश में कोविद -19 के लिए पहला परीक्षण 23 जनवरी को पुणे में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) एपेक्स वायरोलॉजी प्रयोगशाला में किया गया था.

देश में टेस्टिंग की संख्या लग़ातार बढ़ी है. 8 अप्रैल तक जहां ये संख्या 10,000 के क़रीब थी वहीं 3 मई तक ये 1 मिलियन के आंकड़े को पार कर गई. 10 जून तक 5 मिलियन, 7 जुलाई तक 10 मिलियन और अब 60.4 मिलियन टेस्ट हो चुके हैं.

इसलिए ज़रूरी है ज़्यादा टेस्टिंग

स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) के मुताबिक ज़्यादा टेस्ट करने से मामलों की पहचान जल्दी होती है और उनका इलाज़ सही समय पर हो पाता है. ऐसे में मृत्यु दर की कमी और प्रभावी इलाज़ की संभावना बहुत बढ़ जाती है. देश में औसतन हर रोज़ पिछले 4 हफ्तों से 10 लाख से ज़्यादा टेस्ट हो रहे हैं. इसमें आरटी पीसीआर और एंटीजन दोनों तरह के कोरोना टेस्ट शामिल हैं.

राज्य सरकारों को दी गई सलाह

बढ़ते मामलों के बीच राज्य सरकारों को इस बात की सलाह दी गई है कि वो एंटीजन टेस्ट में निगेटिव आने वाले उन रोगियों का आरटी-पीसीआर टेस्ट भी ज़रूर करें, जिनमें लक्षण पाए जा रहे हैं. ICMR ने एक बयान में कहा, “हाल ही में, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तमिल नायडू राज्यों से मामलों की बढ़ती संख्या की सूचना मिली है. आईसीएमआर इन राज्यों में टेस्टिंग की संख्या में इज़ाफा कर रहा है.

देश में कोरोनावायरस के अब तक मामले

वहीं कोरोना मामलों की बात करें तो रविवार सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय के जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटों में 92,605 नए मामले सामने आए हैं वहीं इस दौरान 1,133 लोगों की जान गई है. इन नए मामलों के साथ कोरोनावायरस संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 54 लाख के आंकड़े को पार कर गया है. कुल मामले 54,00,620 हैं जिसमें 10,10,824 एक्टिव केस जबकि 43,03,044 मामले रिकवर हो चुके हैं. देश में 86,752 मौतें अब तक कोरोनावायरस के चलते हो चुके हैं.

Related Posts