भारत में जल्द शुरू होगा रूसी कोरोना वैक्सीन के दूसरे चरण का ट्रायल, DCGI ने दी मंजूरी

डॉ रेड्डी और रूसी डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (RDIF) ने साझा बयान में कहा कि, यह एक मल्टी सेंटर और रेंडोमाइज्ड स्टडी (Randomized Study) होगी, जिसमें सुरक्षा और प्रतिरक्षात्मक स्टडी भी शामिल होगी.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 5:56 pm, Sat, 17 October 20
भारत में रूसी कोरोनावायरस वैक्सीन स्पुतनिक वी के दूसरे चरण का ट्रायल जल्द शुरू हो सकता है.

भारत में रूसी कोरोनावायरस वैक्सीन (Russian Covid Vaccine) स्पुतनिक वी (Sputnik V) के दूसरे चरण का ट्रायल (Trial) जल्द शुरू हो सकता है. ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने आखिरकार भारत की दवा निर्माता कंपनी डॉ रेड्डी (Dr. Reddy) को स्पुतनिक वी वैक्सीन के दूसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल (Clinical Trial) की मंजूरी दे दी है. इसके साथ ही रूस वैक्सीन (Russian Vaccine) के लिए आगे बढ़ने वाली पहली कंपनी बन गई है.

दवा निर्माता कंपनी डॉ रेड्डी (Dr. Reddy) और रूसी डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (RDIF) औने साझा बयान में कहा कि यह एक मल्टी सेंटर और रेंडोमाइज्ड स्टडी होगी, जिसमें सुरक्षा और प्रतिरक्षात्मक स्टडी भी शामिल होगी.

ये भी पढ़ें- भारत में मार्च तक आ सकती है कोरोना की वैक्सीन-सीरम इंस्टीट्यूट के अधिकारी का बयान

भारत में 40 हजार लोगों पर हो रहा वैक्सीन ट्रायल

दरअसल वैक्सीन के रूप में रजिस्टर होने से पहले रूस में कम लोगों पर ही स्पुतनिक वी वैक्सीन का ट्रायल किया गया था, इसलिए डीसीजीआई ने दवा कंपनी डॉ रेड्डी के भारत में बड़ी आबादी के बीच क्लीनिकली ट्रायल के शुरुआती प्रस्ताव पर सवाल उठाए थे. रजिस्ट्रेशन के बाद स्पुतनिक वी वैक्सीन का 40,000 लोगों पर तीन फेज का ट्रायल चल रहा है.

सितंबर महीने में डॉ रेड्डी और आरडीआईएफ ने मिलकर भारत में स्पुतनिक वी वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल और डिस्ट्रीब्यूशन शुरू किया. इस पार्टनरशिप के तहत भारत को स्पुतनिक वी वैक्सीन की100 मिलियन खुराकें मिलेंगी.

ये भी पढ़ें- कोरोना वैक्सीन Tracker: रूस के टीके के दूसरे चरण का ट्रायल भारत में जल्द होगा शुरू!

डॉ रेड्डी के को-चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर जीवी प्रसाद ने कहा कि वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल DCGI की वैज्ञानिक कठोरता और मार्गदर्शन के तहत किया जा रहा है. यह एक महत्वपूर्ण विकास है, जो कि क्लीनिकल ट्रायल शुरू करने की अनुमति देता है. यह महामारी से लड़ने के लिए एक सुरक्षित और प्रभावकारी वैक्सीन लाने के लिए प्रतिबद्ध है.