निशानेबाज हीना सिद्धू का पाकिस्तान के मंत्री को करारा तमाचा

पाक मंत्री फवाद हुसैन ने ट्विटर पर भारतीय सेना के सिख सैनिकों से अपील करते हुए लिखा था कि वे कश्‍मीर में ड्यूटी से इनकार कर दें.

नई दिल्ली. जम्‍मू-कश्‍मीर को लेकर पाकिस्‍तान की बौखलाहट का आलम ये है कि वहां के मंत्री भारतीय सेना को उकसाने की नाकाम कोशिश कर रहे हैं. फवाद हुसैन चौधरी ने ट्विटर पर भारतीय सेना के सिख सैनिकों से अपील करते हुए लिखा था कि वे कश्‍मीर में ड्यूटी से इनकार कर दें. इसपर ऐस भारतीय निशानेबाज हीना सिद्धू ने पाक मंत्री को करारा जवाब दिया है.

हीना सिद्धू ने लिखा, “पंजाबी हमेशा से भारत और भारत के पश्चिम में जो भी है उसके बीच सबसे बड़ी दीवार बनाकर खड़े रहे हैं. मैं एक पंजाबी और एक सिद्धू हूं. मुझे उम्मीद है कि आपने सिख इतिहास के बारे में थोड़ा पढ़ा होगा. सेना को भूल जाओ…जो हमारा है उसकी रक्षा के लिए हमें सेना में होने की जरुरत भी नहीं है.” बता दें कि, सिद्धू ISSF वर्ल्ड कप में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय पिस्टल शूटर हैं. वह वर्ल्ड नंबर-1 रह चुकी हैं. वह 2010 और 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में मेडल जीत चुकी हैं.

पंजाब के सीएम कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने भी दिया था जवाब 

कैप्‍टन ने फवाह के ट्वीट को कोट करते हुए लिखा, “भारत के अंदरूनी मामलों में दखल देना बंद करें. और मैं आपको बता दूं कि भारतीय सेना अनुशासन वाली और राष्‍ट्रवादी फोर्स है, आपकी आर्मी जैसे नहीं. आपके भड़काऊ भाषण काम नहीं करेंगे, न ही हमारी सेना के जवान आपकी भेदभाव वाली बात सुनेंगे.”

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) ने सोमवार को पाकिस्तानी पत्रकार के द्वारा किए गए ट्वीट को फर्जी करार दिया था, जिसमें यह दावा किया गया था कि फैसले के बाद CRPF और जम्मू एवं कश्मीर पुलिस के बीच एक कथित अनबन हुई है.

ट्विटर ने एक दिन पहले ही, जम्मू एवं कश्मीर के हालात को लेकर झूठी खबरें फैला रहे चार हैंडल्‍स को बंद कर दिया था. यह हैंडल्‍स ISI और पाकिस्तानी सेना चला रहे थे. इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के आदेश पर ट्विटर ने इन चार दुर्भावनापूर्ण अकाउंट्स को बंद कर दिया. अन्य चार को निलंबित करने की तैयारी है.

हटाने के लिए भेजे गए अकाउंट्स की सूची में सैयद अली गिलानी, वॉइस ऑफ कश्मीर, मदीहा शकील खान, अरशद शरीफ, मैरी स्कली आदि शामिल 5 पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने और जम्मू एवं कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने के बाद से प्रदेश में लगे लॉकडॉउन को लेकर झूठी खबरें फैलाई जा रही थीं.

ये भी पढ़ें: कश्मीर से आर्टिकल 370 खत्म….अब शांति में तब्दील हो जाएगी क्रांति!

ये भी पढ़ें: ‘हमें मूर्खों के स्वर्ग में नहीं रहना चाहिए’, पाक के विदेश मंत्री ने ही दिखाया इमरान खान को आईना