बायो फ्यूल भरकर AN-32 ने भरी पहली उड़ान, वायुसेना ने फिर रचा इतिहास

यह पहली बार है जब विमान के दोनों इंजनों में भारतीय बायो जेट फ्यूल के मिश्रण का इस्तेमाल किया गया.
bio jet fuel, बायो फ्यूल भरकर AN-32 ने भरी पहली उड़ान, वायुसेना ने फिर रचा इतिहास

भारतीय वायुसेना को एक और कामयाबी हासिल हुई है. वायुसेना के विमान AN-32 ने पहली बार दोनों इंजनों में बायो जेट फ्यूल (जैव ईंधन) के साथ लेह से उड़ान भरी. लेह के कुशोक बाकुला रिंपोची एयरपोर्ट से वायुसेना के AN-32 ने 10 फीसदी बायो जेट फ्यूल के मिश्रण के साथ यह उड़ान भरी.

यह पहली बार है जब विमान के दोनों इंजनों में भारतीय बायो जेट फ्यूल के मिश्रण का इस्तेमाल किया गया. इससे पहले दिसंबर 2018 में भी ऐसा एक प्रयोग किया जा चुका है मगर तब सिर्फ एक इंजन में बायो जेट फ्यूल का मिश्रण था.

bio jet fuel, बायो फ्यूल भरकर AN-32 ने भरी पहली उड़ान, वायुसेना ने फिर रचा इतिहास

लेह में इस ऑपरेशनल उड़ान से पहले चंडीगढ़ एयर बेस पर विमान का परीक्षण किया गया था. इस स्वदेशी ईंधन का उत्पादन करने की तकनीक को 2013 में CSIR-IIP द्वारा विकसित किया गया था.

इस सफल परीक्षण उड़ान ने जहां एक ओर मेक इन इंडिया को बढ़ावा दिया है, वहीं इससे भारतीय वायुसेना की क्षमता में भी खासा इजाफा हुआ है.

ये भी पढ़ें-

Related Posts