VIDEO: 192 घंटे बाद अरुणाचल की पहाड़ी पर मिला AN-32 का मलबा, 13 लोग थे सवार

विमान का मलबा मिलने के बाद अब इसमें सवार लोगों के बारे में पता लगाने की कोशिश जारी है.

नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना (IAF) के लापता हुए विमान (AN-32) मंगलवार को अरुणाचल प्रदेश के सियांग जिले में मिल गया है. (AN-32) विमान अरुणाचल प्रदेश में तीन जून को 13 लोगों के साथ लापता हो गया था. भारतीय वायुसेना ने ट्वीट कर लापता विमान के मलबे की खबर दी.

भारतीय वायुसेना ने ट्वीट में लिखा, “लापता एएन-32 के मलबे को आज देखा गया है. Mi-17 हेलीकॉप्टर द्वारा 12000 फीट की अनुमानित ऊंचाई पर नॉर्थ ऑफ लिपो में देखा गया. फिलहाल इस इलाके में तलाशी अभियान जारी है.

पिछले एक हफ्ते से इस विमान की खोज लगातार जारी थी. खराब मौसम की वजह से इस अभियान को कई बार रोकना पड़ा. इस विमान में सवार लोगों में चालक दल के आठ सदस्य और पांच यात्री शामिल थे. हालांकि, इन्हें लेकर अभी कोई जानकारी सामने नहीं आई है. इसे लेकर वायु सेना ने कहा कि विमान का मलबा मिलने के बाद अब इसमें सवार लोगों के बारे में पता लगाने की कोशिश जारी है.

परिवहन विमान ने तीन जून को असम के जोरहाट एयरबेस से अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम सियांग जिले के मेचुका एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड के लिए उड़ान भरी थी. आठ जून को, वायुसेना ने लापता विमान के स्थान का पता या इससे संबंधित जानकारी देने के लिए पांच लाख रुपये इनाम की घोषणा की थी.

रूसी विमान है  An-32

Antonov An-32 दो इंजन वाला टर्बोप्रोप मिलिट्री ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट है. ये एयरक्राफ्ट रूसी विमान एएन-26 का आधुनिक वर्जन है. इस विमान की सबसे बड़ी खासियत ये है कि यह किसी भी मौसम में उड़ान भरने में सझम है. इस एयरक्राफ्ट को इंदिरा गांधी की सरकार के समय रूस और भारत के बीच दोस्ताना संबंध और भारतीय वायुसेना की जरूरतों को देखते हुए मंगाया गया था.

इसका अधिकतम इस्तेमाल कम और मध्यम हवाई दूरी के लिए सैन्य साजो-सामान पहुचांने, आपदा के समय घायलों को अस्पताल लाने-ले जाने और जावनों को एक जगह दूसरी जगह पहुंचाने में किया जाता है. भारत में जब भी युद्ध और प्राकृतिक आपदा जैसी परिस्थितियों हुई है इस विमान ने इंडियन एयरफोर्स का बहुत साथ निभाया है. कारगिल युद्ध के दौरान यह विमान जवानों को दुर्गम स्थानों पर भेजने में अहम साबित हुआ था.

ये भी पढ़ें- प्लेन को हाईजेक करने की धमकी पड़ी महंगी, बिरजू सल्ला को उम्रकैद