भारतीय सेना के जवान बने मसीहा, बर्फीले तूफान में बचाई गर्भवती महिला की जान

मुश्किल हालातों में सेना जवानों ने गर्भवती महिला को उनके बेहतर इलाज के लिए सिविल अस्पताल से निकालकर दूसरे हॉस्पिटल शिफ्ट करवाने में मदद की.

जम्मू कश्मीर में आए बर्फीले तूफान ने वहां लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं, लोगों को किसी भी काम के लिए बाहर आने-जाने में काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में लोगों की भारतीय सेना के जवान लोगों का सहारा बने हुए हैं. जवान अपनी जान पर खेलकर लोगों के काम आ रहे हैं.

हाल ही में जवानों ने एक गर्भवती महिला को बेहद मुश्किल रास्तों से निकालते हुए इलाज के लिए अस्पताल तक पहुंचाया. मामला गुरेज सेक्टर का है जहां भारी बर्फबारी के चलते आना जाना बाधित रहा. इन मुश्किल हालातों में सेना जवानों ने गर्भवती महिला को उनके बेहतर इलाज के लिए सिविल अस्पताल से निकालकर दूसरे हॉस्पिटल शिफ्ट करवाने में मदद की.

इसके अलावा बारामुला इलाके में भी जवानों ने खुद की जान मुश्किल में डालते हुए एक गर्भवती महिला को अस्पताल पहुंचाया.

आर्मी जवानों ने न सिर्फ महिलाओं बल्कि बर्फबारी में फंसे बुजुर्ग लोगों की भी मदद की. जवानों ने कुपवाड़ा के लालपोरा में लगभग 2 किलोमीटर तक बिछी बर्फ को पार कर 75 वर्षीय गुलाम नबी गनी को बचाया. मामला 16 जनवरी का है जब ठंड की वजह से उनकी हालत काफी नाजुक थी, जिसके बाद सेना जवान उन्हें PHC (प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र) लेकर गए. भारतीय सेना की चिनार क्रॉप्स ने इसका वीडियो भी पोस्ट किया था.

Related Posts