पीएलए के सामने और मजबूत हुई भारतीय सेना, एलएसी से लगे 6 नए ठिकानों पर बनाई गहरी पकड़

रिपोर्ट के मुताबिक, 29 अगस्त से सितंबर के दूसरे हफ्ते के बीच भारतीय सेना (Indian Army) ने छह नए ठिकानों पर अपनी स्थिति मजबूत कर ली है. हमारी टुकड़ियों ने जहां पर अपनी पकड़ बढ़ाई है उनमें मगर हिल, गुरुंग हिल, रिचेन ला, रेजांग ला, मुखपरी और फिंगर 4 से लगे ठिकाने शामिल हैं.'

भारत (India) और चीन (China) के बीच पिछले कई दिनों से सीमा (Border) पर तनाव की स्थिति बनी हुई है. दोनों देशों की ओर से की गई तमाम कोशिशों के बावजूद सीमा पर तनातनी अभी खत्म नहीं हुई है. इस बीच भारतीय सेना (Indian Army) ने पिछले तीन हफ्तों के दौरान एलएसी (LAC) से लगे छह नए बड़े ठिकानों पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली है.

एएनआई ने सरकार के टॉप सूत्रों के हवाले से बताया है कि ’29 अगस्त से सितंबर के दूसरे हफ्ते के बीच भारतीय सेना ने छह नए ठिकानों पर अपनी स्थिति मजबूत कर ली है. हमारी टुकड़ियों ने जहां पर अपनी पकड़ बढ़ाई है उनमें मगर हिल, गुरुंग हिल, रिचेन ला, रेजांग ला, मुखपरी और फिंगर 4 से लगे ठिकाने शामिल हैं.’

भारतीय सेना की पीएलए पर बढ़त

सूत्रों ने बताया कि ये ठिकाने अब तक खाली पड़े हुए थे लेकिन इन पर कब्जा जमाने की फिराक में चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) लगी हुई थी. इस तरह से भारतीय सेना ने इन पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराकर पीएलए पर बढ़त हासिल कर ली है.

सूत्रों ने बताया कि चीनी सेना की ओर से ठिकानों पर कब्जा करने की कोशिशों को नाकाम करने के लिए हवा में गोलियां लगाई गईं. उन्होंने बताया कि पैंगांग के उत्तरी किनारे से लेकर झील के दक्षिणी किनारे के बीच तीन मौकों पर गोलियां चलीं.

सूत्रों ने यह साफ कर दिया कि ब्लैक टॉप और हेलमेट टॉप हिल एलएसी के चीनी तरफ हैं. वहीं, जिन ठिकानों पर सेना ने अपनी पकड़ मजबूत की है वो एलएसी की भारतीय साइड में हैं.

चीनी सैनिकों की तेज हुईं गतिविधियां

वहीं, चीनी सेना ने अपनी संयुक्त हथियार ब्रिगेड की लगभग 3,000 अतिरिक्त टुकड़ियों को रेजांग ला और रिचेन ला के पास तैनात कर दिया है. इनमें इंफैन्ट्री और बख्तररबंद सेना शामिल है.

इसके अलावा चीनी सेना की मोल्डो गैरीसन भी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी द्वारा पिछले कुछ हफ्तों में अतिरिक्त सैनिकों के साथ पूरी तरह से सक्रिय हो गई है. ऐसे में सीमा पर बने हालात को देखकर कहा जा सकता है कि तनाव के जल्द खत्म होने के आसार कम हैं.

Related Posts