CoronaVirus का सब्जी किसानों पर कहर, लॉकडाउन की मार से चित्तूर में फसलें बर्बाद

कोरोना (Corona) की वजह से लगे लॉकडाउन (Lockdown) से किसान भी प्रभावित हैं. एक तरह जहां सब्जियों के दाम बढ़ रहे हैं, वहीं दूसरी ओर इसका लाभ किसानों को नहीं मिल रहा है. किसानों को अपनी फसल जानवरों को खिलानी पड़ रही है या फेंकना पड़ रहा है.
Coronavirus ruined crops, CoronaVirus का सब्जी किसानों पर कहर, लॉकडाउन की मार से चित्तूर में फसलें बर्बाद

फसल अच्छी हुई, लेकिन कोरोना वायरस (CoronaVirus) को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) ने चित्तूर जिले के किसानों का सबकुछ बर्बाद कर दिया.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

आंध्र प्रदेश में टमाटर, मिर्च और केले के किसान लॉकडाउन की वजह से बहुत ज्यादा परेशान हैं. कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीतने के लिए देश 21 दिनों तक लॉकडाउन है. सब कुछ मानों ठहर सा गया है. जो जहां है वहीं रुक गया है. लॉकडाउन का असर कई क्षेत्रों में देखने को मिल रहा है. इससे किसान भी प्रभावित हैं. एक तरह जहां सब्जियों के दाम बढ़ रहे हैं, वहीं दूसरी ओर इसका लाभ किसानों को नहीं मिल रहा है. नौबत ये आ गई है कि किसानों को अपनी फसल जानवरों को खिलानी पड़ रही है या सड़क पर या कूड़े में फेंकना पड़ रहा है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

आंध्र प्रदेश में टमाटर, मिर्च और खरबूजे के किसान बुरी तरह प्रभावित हैं. किसानों को अपनी फसल के खरीदार नहीं मिल रहे हैं. चित्तूर जिले के पलामनेरु क्षेत्र में लॉकडाउन की वजह से टमाटर जानवरों को खिलाना पड़ रहा है.

हालांकि, लॉकडाउन में किसानों को छूट दी गई है. आंध्र प्रदेश के किसान मंडी तक अपनी उपज लेकर जा भी रहे हैं, लेकिन खरीदार नहीं मिलने से निराशा हाथ लग रही है. आंध्र प्रदेश के कई इलाकों में टमाटर की बंपर पैदावार हुई. लेकिन इससे पहले कि किसान खुश होते, देश लॉकडाउन हो गया और अब सब बर्बाद हो रहा है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

टमाटर और खरबूजे की लाइफ कम होती है. ये जल्दी खराब होने लगते हैं. कुछ किसान अपनी फसल लेकर मंडी पहुंच गए थे. गाड़ियों में उनकी फसल लदी हुई है, लेकिन खरीदने के लिए कोई नहीं आ रहा है. किसानों ने सरकार से अपील की है कि उनकी फसल खरीद ले. किसान चाहते हैं कि इसके लिए स्पेशल स्टाफ की व्यवस्था की जाए.

इसी तरह पड़ोसी जिले कडप्पा में केले के किसान सड़क किनारे फलों से लदे ट्रक को फेंकने को मजबूर हैं. किसान ये भी आरोप लगा रहे हैं कि पुलिस उनकी गाड़ियों को मंडी तक नहीं पहुंचने दे रही है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts