राज्य सरकारों से इंडियन रेलवे की अपील, इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट के लिए मजदूरों को भेजें वापस

अधिकारियों ने कहा कि DFCCIL ने उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड की सरकारों से 81,000 करोड़ रुपये की वाले इस प्रोजेक्ट के लिए श्रमिकों की व्यवस्था करने के लिए मदद मांगी है.
Indian railway appeal to state governments, राज्य सरकारों से इंडियन रेलवे की अपील, इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट के लिए मजदूरों को भेजें वापस

भारतीय रेलवे (Indian Railway) अपना सबसे बड़ा बुनियादी ढांचा प्रोजेक्ट डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (Dedicated Freight Corridors) के निर्माण कार्य के लिए मजदूरों को वापस लाने के लिए राज्यों के साथ बातचीत कर रहा है. इस प्रोजेक्ट का काम करने वाली एजेंसी, डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (DFCCIL) ने कोरोनोवायरस के चलते लगाए गए लॉकडाउन के बाद अपने कार्यबल को लगभग 50 प्रतिशत कर दिया था.

81,000 करोड़ रुपये की लागत का प्रोजेक्ट

ऑनलाइन मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अब फिर से इस कार्य को पूरा करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. इसी के चलते 20 हजार मजदूरों को वापस लाने की कोशिश की जा रही हैं. अधिकारियों ने कहा कि DFCCIL ने उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड की सरकारों से 81,000 करोड़ रुपये की लागत वाले इस प्रोजेक्ट के लिए श्रमिकों की व्यवस्था करने के लिए मदद मांगी है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

DFCCIIL ने मजदूरों को वापस लाने के लिए बल्क में विशेष ट्रेनों की बुकिंग और बसों की तैनाती शुरू कर दी है. DFCCIIL के मैनेजिंग डायरेक्टर अनुराग सचन ने कहा कि लॉकडाउन से पहले हमारे पास लगभग 40,000 मजदूर काम कर रहे थे. पहले लॉकडाउन की घोषणा के बाद पहले 15 दिनों में ही बहुत सारे प्रवासी वापस चले गए.

लॉकडाउन में वापस गए मजदूर

उन्होंने कहा कि जब श्रामिक स्पेशल ट्रेनें शुरू हुईं, तो हमारे लगभग 50 प्रतिशत कर्मचारी (लगभग 25,000 मजदूर) वापस चले गए थे. हमारे पास एलएंडटी, टाटा, जीएमआर समूह आदि जैसी प्रमुख एजेंसियां ​​हैं, जिन्होंने हमसे श्रमिकों वापस लाने का अनुरोध किया है. हमने यूपी सरकार को इस विषय पर लिखा है. हम बिहार और झारखंड की सरकारों से भी बात कर रहे हैं, क्योंकि अधिकांश मजदूर पूर्वी राज्यों में आते हैं.

रेलवे ने 1 मई से अब तक 4,594 श्रमिक विशेष ट्रेन से 6.28 मिलियन से अधिक प्रवासियों को उनके होम टाउन तक पहुंचा चुका है. ये वो प्रवासी थे जो कि लॉकडाउन के कारण जहां थे वहीं फंसे रहे गए और उन्होंने फिर होम टाउन जाने के लिए वो पैदल ही निकल पड़े.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts