अब दूर नहीं पास के चंदा मामा, भारत ने ‘चंद्रयान 2’ किया लॉन्च

चंद्रयान 2 पर भारत को गर्व है. इसरो की कामयाबी में चार चांद लग गया है.

नई दिल्ली: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अपने मून मिशन के तहत चंद्रयान 2 को लॉन्च कर दिया है. रॉकेट सोमवार अपराह्न 2.43 बजे प्रक्षेपित किया किया. चंद्रयान 2 को लॉन्च करके भारत ने एक बार फिर से इतिहास लिख दिया है. चंद्रयान 2 पर भारत को गर्व है. इसरो की कामयाबी में चार चांद लग गया है.

7 सिंतबर को विक्रम लैंडर चांद की सतह पर उतरेगा. इसके बाद रोवर प्रज्ञान चांद की सतह की जानकारी देगा. चंद्रयान-2 के लिए अगले कुछ मिनट बहुत महत्वपूर्ण हैं. ISRO ने जानकारी दी है कि अभी रॉकेट की गति बिल्कुल सामान्य है. सब कुछ इसरो की प्लानिंग के हिसाब से चल रहा है. चंद्रयान-2 परियोजना 978 करोड़ रुपये की है.

15 जुलाई को नहीं हो पाया था लॉन्च
चंद्रयान-2 के साथ जीएसएलवी-एमके तृतीय को पहले 15 जुलाई को तड़के 2.51 बजे प्रक्षेपित किया जाना था. हालांकि प्रक्षेपण से एक घंटा पहले एक तकनीकी खामी के पाए जाने के बाद प्रक्षेपक्ष स्थगित कर दिया गया था.

इसरो ने बाद में 44 मीटर लंबे और लगभग 640 टन वजनी जियोसिंक्रोनाइज सैटेलाइट लांच व्हीकल- मार्क तृतीय (जीएसएलवी-एमके तृतीय) की खामी को दूर कर दिया. जीएसएलवी-मार्क तृतीय का उपनाम बाहुबली फिल्म के इसी नाम के सुपर हीरो के नाम पर बाहुबली रखा गया है.

जैसे नायक विशाल शिवलिंग को उठाता है…
फिल्म में जैसे नायक विशाल और भारी शिवलिंग को उठाता है, उसी तरह रॉकेट भी 3.8 टन वजनी चंद्रयान-2 अंतरिक्ष यान को उठाकर अंतरिक्ष में ले जाएगा. उड़ान के लगभग 16वें मिनट में 375 करोड़ रुपये का जीएसएलवी-मार्क तृतीय रॉकेट 603 करोड़ रुपये के चंद्रयान-2 विमान को अपनी 170 गुणा 39, 120 किलोमीटर लंबी कक्षा में उतार देगा.

इसरो अब तक तीन जीएसएलवी-एमके तृतीय भेज चुका है. जीएसएलवी-एमके तृतीय का उपयोग 2022 में भारत के मानव अंतरिक्ष मिशन में भी किया जाएगा.

ये भी पढ़ें-

ISRO Chandrayaan 2 Launch LIVE: चंद्रयान-2 लॉन्‍च, ISRO के मिशन पर पूरे देश की नजरें

मंत्री बनने के चक्‍कर में कमलनाथ सरकार की किरकिरी करा रहीं बसपा विधायक

J&K गवर्नर सत्यपाल मलिक के बयान पर भड़के उमर अब्दुल्ला, ट्वीट कर कही ये बात