नौसेना में शामिल हुई पनडुब्बी INS खंडेरी, जानिए इसे क्यों कहते हैं ‘साइलेंट किलर’

INS खंडेरी भारतीय समुद्री सीमा की सुरक्षा करने में पूरी तरह से सक्षम है. अत्याधुनिक तकनीक से लैश खंडेरी में टॉरपीडो और ऐंटिशिप मिसाइलें तैनात की जाएंगी.
INS खंडेरी, नौसेना में शामिल हुई पनडुब्बी INS खंडेरी, जानिए इसे क्यों कहते हैं ‘साइलेंट किलर’

नौसेना की दूसरी सबसे अत्याधुनिक पनडुब्बी आईएनएस (INS) खंडेरी आज नौसेना के बेड़े में शामिल हो गई है. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और चीफ ऑफ नेवल स्टाफ की मौजूदगी में मुंबई नेवल डॉकयार्ड पर उद्घाटन किया गया.

INS खंडेरी को नौसेना में शामिल करने के बाद राजनाथ सिंह ने कहा, ”पाकिस्तान को समझना चाहिए कि आज हमारी सरकार के मजबूत संकल्प से INS खंडेरी के बेड़े में शामिल होने के बाद नेवी की क्षमता बढ़ गई है. अब भारत, पाकिस्तान को पहले से बड़ा झटका देने में सक्षम है.”

‘कुछ ऐसी ताकतें हैं जिनकी हसरतें नापाक हैं’

राजनाथ सिंह ने कहा, ” कुछ ऐसी ताकतें हैं जिनकी हसरतें नापाक हैं. वे साजिश रच रहे हैं कि समंदर के रास्ते मुंबई के 26/11 जैसा एक और अनुमानित अटैक भारत के इस कोस्टल एरिया में कर सकें. लेकिन उनके इरादे किसी भी सूरत में कामयाब नहीं होंगे.”

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने INS खंडेरी का जायजा लिया. उनके साथ नेवी चीफ एडमिरल कर्मवीर सिंह मौजूद रहे.

सुरक्षा करने में पूरी तरह से सक्षम

खंडेरी भारतीय समुद्री सीमा की सुरक्षा करने में पूरी तरह से सक्षम है. अत्याधुनिक तकनीक से लैश खंडेरी में टॉरपीडो और ऐंटिशिप मिसाइलें तैनात की जाएंगी. ये पानी से पानी और पानी से किसी भी युद्धपोत को ध्वस्त करने की क्षमता रखती हैं.

कुल वजन 1550 टन

खंडेरी पानी के भीतर 45 दिनों तक रह सकती है. इसी के साथ देश में निर्मित यह पनडुब्बी एक घंटे में 35 किलोमीटर की दूरी आसानी से तय कर सकती है. 67 मीटर लंबी, 6.2 मीटर चौड़ी और 12.3 मीटर की ऊंचाई वाली पनडुब्बी का कुल वजन 1550 टन है.

दुश्मन के छक्के छुड़ाने की ताकत

इसमें 36 से अधिक नौसैनिक रह सकते हैं. दुश्मन सेना के छक्के छुड़ाने की ताकत रखने वाली खंडेरी सागर में 300 मीटर की गहराई तक जा सकती है. कोई भी रेडार इसका पता नहीं लगा सकता है.

ये भी पढ़ें-

हमारी समुद्री सुरक्षा पूरी तरह से मजबूत, जो परेशान करेगा उसे चैन से नहीं बैठने देंगे: राजनाथ सिंह

1947 में 23% अल्पसंख्यक थे अब 3% बचे हैं, पाकिस्तान हमें नसीहत न दें: UNGA में भारत का जवाब

Related Posts