jammu kashmir-jammu kashmir terror attack-pulwama terrorist attack-awantipura terrorist attack-crpf convey terrorist attack-BJP-CRPF-CRPF 40 jawans killed-Kashmir news-Jammu news-pulwama crpf terrorist attack-CRPF jawan martyr-JEM-JEM IED blast-jaish e mohammad, पुलवामा: हमले के पीछे अफगान युद्ध के पुराने सिपाही का हाथ होने की आशंका
jammu kashmir-jammu kashmir terror attack-pulwama terrorist attack-awantipura terrorist attack-crpf convey terrorist attack-BJP-CRPF-CRPF 40 jawans killed-Kashmir news-Jammu news-pulwama crpf terrorist attack-CRPF jawan martyr-JEM-JEM IED blast-jaish e mohammad, पुलवामा: हमले के पीछे अफगान युद्ध के पुराने सिपाही का हाथ होने की आशंका

पुलवामा: हमले के पीछे अफगान युद्ध के पुराने सिपाही का हाथ होने की आशंका

jammu kashmir-jammu kashmir terror attack-pulwama terrorist attack-awantipura terrorist attack-crpf convey terrorist attack-BJP-CRPF-CRPF 40 jawans killed-Kashmir news-Jammu news-pulwama crpf terrorist attack-CRPF jawan martyr-JEM-JEM IED blast-jaish e mohammad, पुलवामा: हमले के पीछे अफगान युद्ध के पुराने सिपाही का हाथ होने की आशंका

कश्मीर

इंटेलिजेंस एजेंसियों को आशंका है कि गुरुवार को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफीले पर हुए आतंकी हमले के पीछे जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर अब्दुल राशीद गाज़ी का हाथ हो सकता है. अब्दुल राशीद गाज़ी अफगान युद्ध का एक पुराना सिपाही रह चुका है. टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार, अब्दुल राशीद गाज़ी आईईडी स्पेश्लिस्ट है. एजंसियों को आशंका है कि दिसंबर 2018 से ही वह गुरुवार को हुए हमले की प्लानिंग में जुटा हुआ था.

रिपोर्ट के मुताबिक, यह हमला 9 फरवरी को किए जाने के कयास लगाए जा रहे थे, जिस दिन संसद पर हुए हमले के मास्टरमाइंड अफज़ल गुरु की डेथ एनिवर्सरी है. अब्दुल राशीद गाज़ी 9 दिसंबर को कश्मीर पहुंचा था. तब से लेकर हमला होने तक वह कहीं जाने के लिए या तो पैदल ही सफर करता था या फिर पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करता था. टीओआई के हाथ लगे इंटेलिजेंस इंपुट्स के मुताबिक, गाज़ी अकेला भारत नहीं आया था वह अपने साथ जैश-ए-मोहम्मद के दो अन्य आतंकवादियों को भी साथ लाया था. गाज़ी को घाटी में रहकर स्थानीय लड़कों को बहला-फुसलाकर उन्हें जैश में शामिल करने और उनसे यह हमला करवाने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी.

इस हमले के पीछे की वजह जैश के चीफ मौलाना मसूद अजहर के भतीजे ताल्हा और उस्मान की मौत का बदला लेना बताया गया है. आपको बता दें कि यह हमला उस समय हुआ जब 78 वाहनों के काफिले में 2,547 सीआरपीएफ जवान जम्मू के ट्रांजिट शिविर से श्रीनगर की ओर जा रहे थे। हमला इतना जबरदस्त था कि सीआरपीएफ बस के परखच्चे उड़ गए। माना जा रहा है कि बस में 39 जवान सवार थे। एक रिपोर्ट में कहा गया कि एसयूवी 200 किलो विस्फोटक से भरी हुई थी, जिसमें संभवत: आरडीएक्स भी हो सकता है। इस आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 42 जवान शहीद हुए हैं. वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत तमाम दलों के नेताओं व समाज के अन्य लोगों ने इस बर्बर घटना की कड़ी निंदा की है।

jammu kashmir-jammu kashmir terror attack-pulwama terrorist attack-awantipura terrorist attack-crpf convey terrorist attack-BJP-CRPF-CRPF 40 jawans killed-Kashmir news-Jammu news-pulwama crpf terrorist attack-CRPF jawan martyr-JEM-JEM IED blast-jaish e mohammad, पुलवामा: हमले के पीछे अफगान युद्ध के पुराने सिपाही का हाथ होने की आशंका
jammu kashmir-jammu kashmir terror attack-pulwama terrorist attack-awantipura terrorist attack-crpf convey terrorist attack-BJP-CRPF-CRPF 40 jawans killed-Kashmir news-Jammu news-pulwama crpf terrorist attack-CRPF jawan martyr-JEM-JEM IED blast-jaish e mohammad, पुलवामा: हमले के पीछे अफगान युद्ध के पुराने सिपाही का हाथ होने की आशंका

Related Posts

jammu kashmir-jammu kashmir terror attack-pulwama terrorist attack-awantipura terrorist attack-crpf convey terrorist attack-BJP-CRPF-CRPF 40 jawans killed-Kashmir news-Jammu news-pulwama crpf terrorist attack-CRPF jawan martyr-JEM-JEM IED blast-jaish e mohammad, पुलवामा: हमले के पीछे अफगान युद्ध के पुराने सिपाही का हाथ होने की आशंका
jammu kashmir-jammu kashmir terror attack-pulwama terrorist attack-awantipura terrorist attack-crpf convey terrorist attack-BJP-CRPF-CRPF 40 jawans killed-Kashmir news-Jammu news-pulwama crpf terrorist attack-CRPF jawan martyr-JEM-JEM IED blast-jaish e mohammad, पुलवामा: हमले के पीछे अफगान युद्ध के पुराने सिपाही का हाथ होने की आशंका