‘एक था टाइगर से टाइगर जिंदा है तक पहुंचायी यात्रा’ पीएम मोदी ने क्यों कही यह बात?

"कभी ‘एक था टाइगर’ का डर था, लेकिन आज यह यात्रा ‘टाइगर जिंदा है’ तक पहुंच चुकी है."

नई दिल्ली: पूरे विश्व में इंटरनेशनल टाइगर डे मनाया जा रहा है. आज से करीब 13 साल पहले देश में सिर्फ 1411 बाघ थे लेकिन 2014 तक बढ़कर 2226 हो गए. बाघ की आबादी साल दर साल बढ़ रही है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि भारत में बाघों की स्थिति 2014 के मुकाबले 2018 में बेहतर हुई है.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, “कभी ‘एक था टाइगर’ का डर था, लेकिन आज यह यात्रा ‘टाइगर जिंदा है’ तक पहुंच चुकी है. लेकिन ‘टाइगर जिंदा है’ कहना ही पर्याप्त नहीं है, हमें उनकी संख्या बढ़ाने के लिए अनुकूल वातावरण भी तैयार करना है.’

इससे पहले उन्होंने नई दिल्ली स्थित अपने आधिकारिक आवास पर ऑल इंडिया टाइगर एस्टिमेशन के चौथे चक्र के परिणाम जारी करते हुए कहा, “भारत में 2014 में जहां बाघों की संख्या 2,226 थी, वहीं अब 2018 में यह आकंड़ा 2,967 हो गया है.”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “नौ साल पहले, सेंट पीटर्सबर्ग में निर्णय लेकर साल 2022 तक बाघों की आबादी दोगुनी करने का लक्ष्य रखा गया था. भारत में हमने यह लक्ष्य चार साल पहले पूरा कर लिया.”

उन्होंने आगे कहा, “घोषित किए गए बाघ जनगणना के परिणामों से हर भारतीय को और हर प्रकृति प्रेमी को खुशी मिलेगी.”

और पढ़ें- बीएस येदियुरप्पा ने कर्नाटक विधानसभा में साबित किया बहुमत

Related Posts