नीति आयोग के सदस्य बोले- गंदी फिल्में देखने के लिए होता है कश्मीर में इंटरनेट का इस्तेमाल

उन्होंने कहा कि मैं यह बात कह रहा हूं कि इंटरनेट कश्मीर में अगर नहीं है, तो उससे अर्थव्यवस्था पर कुछ खास असर नहीं पड़ता है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 8:28 am, Sun, 19 January 20

नीति आयोग के सदस्य वीके सारस्वत ने जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट बहाल होने पर कहा कि “गंदी फिल्में” देखने के लिए इंटरनेट का उपयोग किया गया था. वीके सारस्वत ने धीरूभाई अंबानी इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन एंड कम्यूनिकेशन टेक्नोलॉजी (DA-IICT) के वार्षिक दीक्षांत समारोह के मौके पर कहा, ‘ये जितने नेता वहां जाना चाहते हैं, वे किस लिए जाना चाहते हैं? वो जैसे आंदोलन दिल्ली के सड़कों पर हो रहा है, वह कश्मीर में भी लाना चाहते हैं.

इसके साथ ही वीके सारस्वत ने कहा, ‘जो सोशल मीडिया है, वह उसको आग की तरह इस्तेमाल करता है. वहां इंटरनेट ना हो तो क्या अंतर पड़ता है? वैसे भी आप इंटरनेट में वहां क्या देखते हैं? वहां गंदी फिल्म देखने के अलावा कुछ नहीं करते आप लोग.’ जब नीति आयोग के सदस्य वीके सारस्वत से स्पष्ट करने के लिए कहा गया, तो उन्होंने कहा कि मैं यह बात कह रहा हूं कि इंटरनेट कश्मीर में अगर नहीं है, तो उससे अर्थव्यवस्था पर कुछ खास असर नहीं पड़ता है.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद लागू किए गए इंटरनेट पर प्रतिबंध धीरे-धीरे हटाए जा रहे हैं. सबसे पहले प्रशासन ने अब प्रीपेड सिम कार्ड्स पर वॉइस और एसएमएस सेवा बहाल की गई. साथ ही अब घाटी में ब्रॉडबैंड इंटरनेट सर्विस शुरू कर दिया गया है. ब्रॉडबैंड इंटरनेट सर्विस शुरू होने के बाद करीब 150 से ज्यादा वेबसाइटों को व्हाइट लिस्ट में रखा गया है.

ये भी पढ़ें –

दिल्ली विधानसभा चुनाव : गठबंधन को मनाने के लिए बीजेपी ने नहीं की 13 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा

जम्मू-कश्मीर में Gmail, Outlook और NETFLIX सहित 150 वेबसाइट हुईं शुरू, यहां देखें लिस्ट