‘सूरत के हीरो’ ने बताया कैसे जान पर खेलकर उसने बचाई बच्चों की जिंदगी

सूरत की गैरकानूनी कोचिंग सेंटर में आग लगी तो बचाने के लिए ये फरिश्ता आया. टीवी 9 भारतवर्ष की उस फरिश्ते केतन से बातचीत.


गुजरात के सूरत में तक्षशिला आर्केड में शुक्रवार को लगी आग में अब तक 22 की मौत हो चुकी है. कई घायल हैं, जो कि अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे हैं. गैरकानूनी कोचिंग सेंटर के मालिक भार्गव भूटानी को गिरफ्तार कर लिया गया है. मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने तीन दिन के अंदर जांच करके रिपोर्ट सौंपने को कहा है. इस पूरे हादसे का हीरो केतन नाम का ये लड़का रहा जिसने अपनी जान पर खेलकर वहां कई जानें बचाईं. टीवी9 भारतवर्ष के संवाददाता शुभांकर ने केतन से बात की.

केतन ने बताया कि चार-सवा चार बजे का वक्त था. वहां से आग और धुंआ निकल रहा था और वो उधर से गुजर रहे थे. धुंआ देखकर वो रुक गए. गाड़ी किनारे खड़ी करके सीढ़ी लाए. सीढ़ी पीछे लगाई क्योंकि वहां 13-14 साल के बच्चे थे. उतारने में दो तीन लोगों को चोट भी लग गई. 40-45 मिनट हो गए तो फायर ब्रिगेड आई. तब तक वहां इतनी भीड़ जमा हो गई थी कि उसकी वजह से फायर ब्रिगेड की गाड़ी आगे नहीं जा पा रही थी.

केतन ने आगे बताया कि मेरे पापा वहां फायर ब्रिगेड की गाड़ी पर थे. हमने अपनी छोटी सीढ़ी आगे की साइड में लगाई. पापा ने कहा इन लोगों की मदद करो, चाहे जो भी हो जाए. वहां ऊपर खड़े होने की जगह नहीं थी, एक पाइप लटक रही थी जिसे पकड़कर मैं ऊपर चढ़ गया. फायर ब्रिगेड वाले होते तो वो भी वहां चढ़ नहीं पाते. एक बड़ी बच्ची को बचाने में उसे चोट लग गई. जितना मुझसे हो सका उन बच्चों को बचाया.

केतन से पूछा गया कि वहां पर मौजूद लोग क्या कर रहे थे? इस पर केतन ने बताया कि नीचे खड़े लोग वीडियो बना रहे थे, चिल्ला रहे थे. ऊपर लोग इतना डरे हुए थे कि किसी की आवाज वहां नहीं पहुंच रही थी. वहां नीचे जो कूद रहे थे उन्हें उम्मीद थी कि बच जाएंगे लेकिन बचने की कोई जगह नहीं थी. नीचे फायर ब्रिगेड ने कोई जाली नहीं लगाई थी जिससे नीचे गिरने वाले बच सकें.

ये भी पढ़ें:

कोचिंग सेंटर बना श्मशान, सूरत में 22 की मौत के मामले में पहली गिरफ्तारी

सूरत अग्निकांड दिल दुखा देने वाली घटना, भावुक हुए बॉलीवुड सितारे

जान बचाने को चौथी मंजिल से कूद गए, सूरत अग्निकांड के पीड़‍ितों ने बयां किया खौफनाक मंजर