इंद्राणी मुखर्जी का वो बयान जिसने पी चिदंबरम को कराया अरेस्‍ट, पढ़ें

इंद्राणी मुखर्जी ने अपना बयान 17 फरवरी, 2018 को रिकॉर्ड कराया था. यह बयान अब अदालती दस्‍तावेजों का हिस्‍सा है.

पूर्व वित्‍त और गृहमंत्री पी. चिदंबरम से फिलहाल CBI पूछताछ कर रही है. चिदंबरम को बुधवार रात नाटकीय घटनाक्रम के बाद गिरफ्तार किया गया था. चिदंबरम की गिरफ्तारी की वजह बना इंद्राणी मुखर्जी का CBI और ED को दिया गया बयान. इंद्राणी और उनके पति पीटर मुखर्जी ही उस INX मीडिया के मालिक थे, जिसका यह पूरा मामला है.

इंद्राणी और पीटर ने CBI और ED के सामने दावा किया कि जब 2006 में नॉर्थ ब्‍लॉक में उनकी चिदंबरम (तत्‍कालीन वित्‍तमंत्री) से मुलाकात हुई तो उन्‍होंने दोनों से कहा कि वे उनके बेटे- कार्ति से मिलें और उसकी कारोबार में मदद करें. चिदंबरम के खिलाफ CBI और ED की जांच में इंद्राणी मुखर्जी का बयान बड़ा अहम सबूत है.

इंद्राणी मुखर्जी ने CBI के सामने खोले थे चिदंबरम के राज

इंद्राणी मुखर्जी ने अपना बयान 17 फरवरी, 2018 को रिकॉर्ड कराया था. यह बयान अब अदालती दस्‍तावेजों का हिस्‍सा है. इसमें कहा गया है कि दिल्‍ली के हयात होटल में मुलाकात के दौरान कार्ति ने मुखर्जी दंपती से 1 मिलियन डॉलर की रिश्‍वत मांगी थी.

इन सभी ने मिलकर एक प्‍लान बनाया. इसके मुताबिक, मुखर्जी ने कार्ति की कंपनी को साथ जोड़ा. कार्ति की कंपनी और उसकी सहयोगी कंपनियों ने INX मीडिया से 7 लाख डॉलर (3.10 करोड़ रुपये) की चार रसीदें री-इंबर्स कराई थीं. इन अनियमितताओं को जल्‍द ही विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (FIPB) ने मंजूरी दे दी.

एक सीबीआई अधिकारी ने पहचान गुप्‍त रखने की शर्त पर हिंदुस्‍तान टाइम्‍स से कहा कि मार्च 2007 में INX मीडिया ने वह शर्त तोड़ दी थी जिसके आधार पर इसे FIPB के जरिए शेयर जारी कर 46% इक्विटी जुटाने की अनुमति मिली थी. फेस वैल्‍यू पर शेयर जारी कर 4.62 करोड़ रुपये जुटाने की इजाजत के खिलाफ, कंपनी ने प्रीमियम के साथ शेयर इश्‍यू कर 305 करोड़ जुटा लिए.

इसके अलावा कंपनी ने FIPB का उल्‍लंघन कर INX News Private Limited में 26% डाउनस्‍ट्रीम इनवेस्‍टमेंट किया. इस मामले में कार्ति को फरवरी 2018 में गिरफ्तार किया गया था. पिछले साल पूछताछ के दौरान पी चिदंबरम को वित्‍त मंत्रालय के दस्‍तावेज दिखाए गए थे, मगर उन्‍होंने सहयोग नहीं किया था.

ये भी पढ़ें

पी चिदंबरम के सामने CBI ने लगाई सवालों की झड़ी, इनके जवाब नहीं दे सके पूर्व केंद्रीय मंत्री

पढ़िए क्या है INX मीडिया केस? जिस वजह से सलाखों के पीछे हैं पी चिदंबरम

पूछताछ में चिदंबरम ने नहीं किया कोऑपरेट, उल्टा CBI ऑफिसर को समझाने लगे कानून