जेपी नड्डा को मोदी-शाह ने क्‍यों बनाया BJP का कार्यकारी अध्‍यक्ष, जानिए

जेपी नड्डा को लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया था. उन्होंने अपने प्रदर्शन से खुद को कुशल रणनीतिकार साबित किया है.
जेपी नड्डा, जेपी नड्डा को मोदी-शाह ने क्‍यों बनाया BJP का कार्यकारी अध्‍यक्ष, जानिए

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सोमवार को जगत प्रकाश नड्डा को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाने की घोषणा की जबकि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह पार्टी के अध्यक्ष बने रहेंगे. भाजपा मुख्यालय में यहां पार्टी की संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बताया, “बैठक में आज (सोमवार को) अमित शाह ने कहा कि वह पार्टी को पर्याप्त समय देने में असमर्थ हैं क्योंकि उनके पास केंद्रीय गृह मंत्रालय की भी जिम्मेदारी है.”

सिंह ने कहा, “इसलिए यह निर्णय लिया गया कि पार्टी अध्यक्ष का पद किसी अन्य व्यक्ति को दिया जाना चाहिए. लेकिन, बोर्ड के सदस्यों ने शाह से तब तक अध्यक्ष बने रहने का आग्रह किया जब तक भाजपा सदस्यता अभियान और चुनाव समाप्त नहीं हो जाता.” रक्षामंत्री ने बताया कि हालांकि शाह ने उनकी जगह किसी और को यह पद देने पर जोर दिया, इसलिए यह निर्णय लिया गया कि जे. पी. नड्डा को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया जाए.

जे.पी. नड्डा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली पूर्ववर्ती राजग सरकार में केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री रहे हैं. हिमाचल प्रदेश से राज्यसभा सदस्य नड्डा भाजपा संसदीय बोर्ड के सचिव हैं. वह हिमाचल प्रदेश में तीन बार विधायक रह चुके हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के अलावा वह हिमाचल प्रदेश सरकार में वन, पर्यावरण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री भी रह चुके हैं. नड्डा मई 2012 में राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए थे. आइए जानते हैं कि नड्डा को क्‍यों मिली यह जिम्‍मेदारी?

लोकसभा चुनाव में स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा को उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. उन्होंने अपनी जिम्मेदारी को बखूबी से निभाया भी. उत्तर प्रदेश में BJP गठबंधन को 64 मिलीं. पिछली लोकसभा चुनाव (73) के मुकाबले BJP को उत्तर प्रदेश में 9 सीटें कम मिलीं. लेकिन, इस बार के प्रदर्शन को बिलकुल भी कम करके नहीं आंका जा रहा है. क्योंकि इस बार सपा-बसपा के गठबंधन से BJP को कड़ी चुनौती मिल रही थी.

नड्डा ने हिमाचल प्रदेश को बनाया कर्मभूमि

ब्राह्मण परिवार से आने वाले नड्डा हिमाचल प्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं. 2014 में सरकार बनने पर नड्डा को स्वास्थ्य मंत्री बनाया गया था. हिमाचल प्रदेश में तीन बार विधायक बनने के साथ ही नड्डा राज्य सरकार में कैबिनेट मंत्री का पद भी संभाल चुके हैं. पटना में जन्मे नड्डा ने स्नातक तक की पढ़ाई पटना में करने के बाद हिमाचल का रुख किया था. उन्होंने हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी से LLB की डिग्री प्राप्त की है.

तीन राज्यों में विधानसभा चुनाव होगी पहली बड़ी चुनौती 

नड्डा के सामने सबसे पहले महाराष्‍ट्र, झारखंड और हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनाव की चुनौती होगी. इन तीनों ही राज्यों में इसी साल सितंबर तक चुनाव होने हैं. जम्मू और कश्मीर के साथ ही कर्नाटक में भी विधानसभा चुनाव जल्द होने की गुंजाइश है. अगले साल की शुरुआत में ही उन्हें दिल्ली के विधानसभा चुनाव की चुनौती का भी सामना करना होगा.

Related Posts