पाकिस्तानी सेना के अस्पताल में आतंक का आका, मसूद अजहर की किडनी खराब

खूंखार आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के संस्थापक मसूद अजहर के गुर्दे खराब होने की खबरें हैं और ऐसा बताया जा रहा है कि उसका पाकिस्तान में रावलपिंडी के एक सैन्य अस्पताल में नियमित डायलसिस किया जा रहा है.

नई दिल्ली: आतंक के आका और भारत का मोस्ट वांडेट मौलाना मसूद अजहर को रावलपिंडी में मौजूद पाकिस्तानी सेना के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. ख़बर है कि, मसूद की किडनी खराब हो चुकी है और सेना के अस्पताल में उसका डायलिसिस हो रहा है. पुलवामा हमले समेत भारत में कई आतंकी वारदातों को अंजाम देने वाले जैश-ए-मोहम्मद के इस सबसे बड़े खूंखार आतंकी की तबीयत खराब होने की बात खुद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मोहम्मद कुरैशी ने भी कबूली थी. कुरैशी ने आतंक के मास्टरमाइंड को ‘काफी बीमार’ बताया था और कहा था कि, उसकी हालात इतनी खराब है कि, उसका घर से निकलना भी मुश्किल है.

पुलवामा हमले के पीछे मसूद का दिमाग

14 फरवरी को पुलवामा में भारत ने अपने 40 जवानों को खोया था. इस हमले के पीछे आतंक के मौलाना मसूद अजहर का हाथ था. जैश ने हमले की जिम्मेदारी ली थी. जिसके बाद जैश के ठिकानों पर 26 फरवरी की सुबह भारत सेना ने उसके आतंक के ठिकानों को निशाना बनाकर एयरस्ट्राइक की.

अपने प्यारे ‘आतंकी’ के बचाता रहा है पाकिस्तान

भारत लंबे समय से पाकिस्तान से आतंकी अजहर मसूद की मांग करता रहा है. भारत ने मसूद को लेकर कई बार ठोस सबूत भी दिए हैं. लेकिन हर बार कार्रवाई का झूठा भरोसा देकर पाकिस्तान आतंकी मसूद को बचा लेता है. पुलवामा हमले के पीछे आतंकी मसूद के होने के पुख्ता सबूत हैं. भारत ने बुधवार यानी 27 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले में जैश की भूमिका को लेकर पाकिस्तान को एक डोजियर भी सौंपा था. लेकिन इस बार भी पाकिस्तान कह रहा है कि, अगर, भारत ठोस सबूत देता है, तो हम मसूद अजहर को गिरफ्तार करेंगे.

UN में मसूद को ब्लैकलिस्ट करने का प्रस्ताव

आतंकवाद के खिलाफ शुरू हुई की गई इस लड़ाई में भारत को दुनिया के तमाम देशों का समर्थन मिल रहा है और यहीं वजह है कि, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ब्लैकलिस्ट करने की मांग उठी है. बुधवार को अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने यूएन में मसूद को ब्लैकलिस्ट करने का  प्रस्ताव दिया.

कंधार कांड के दौरान छूटा था आतंकी मसूद

1999 में एयर इंडिया की फ्लाइट आईसी-814 की हाईजैकिंग के वक्त आतंकी मसूद भारत के हाथ से निकल गया था. हाईजैकिंग के दौरान आतंकियों ने फ्लाइट में मौजूद लोगों को छुड़वाने के लिए मसूद समेत तीन आतंकियों को रिहा करने की शर्त रखी थी. तब भारत ने अपने नागरिकों की सुरक्षा के चलते मसूद को रिहा कर दिया था. तब से लेकर अब तक ये खूंखार आतंकी भारत के लिए सिरदर्द बन चुका है. आतंकी मसूद पाकिस्तान में खुलआम घूमता है और रैलियां करता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *