Jamia: दोस्त चंदन की मौत का बदला लेने गया था गोपाल, कासगंज तिरंगा यात्रा के दौरान हुई थी हिंसा

30 जनवरी 2020 को जामिया के छात्रों पर पिस्तौल ताने जाने की घटना के तार साल 2018 में कासगंज तिरंगा यात्रा के दौरान हुई हिंसा के साथ जुड़ते हैं. इस तिरंगा यात्रा पर एक लड़के की मौत हुई थी. जिसका नाम था चंदन गुप्ता, ये शख्स गोपाल शर्मा का दोस्त बताया जा रहा है.
Gopal Firing In Jamia, Jamia: दोस्त चंदन की मौत का बदला लेने गया था गोपाल, कासगंज तिरंगा यात्रा के दौरान हुई थी हिंसा

नई दिल्ली: जामिया नगर में नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में चल रहे प्रदर्शन के दौरान अचानक से एक शख्स आया और पिस्तौल लहराने लगा. यूं तो इस मामले की जांच अभी शुरू ही हुई है और घटना के कारणों की पूरी जानकारी सामने नहीं आ पाई है, लेकिन इस मामले का एक नया एंगल चर्चा का विषय बना हुआ है. खबर के मुताबिक जेवर का रहने वाला गोपाल शर्मा ने गुरुवार को जामिया नगर में जो फायरिंग की उसका मकसद बदला लेना था.

प्रदर्शनकारी जामिया नगर से राजघाट तक मार्च निकाल रहे थे. तभी एक शख्स मार्च में आया और सबके सामने पिस्टल लहराने लगा. इसके बाद उस शख्स ने आगे बढ़ कर फायरिंग शुरू कर दी. जानकारी के मुताबिक युवक की फायरिंग से एक शादाब नाम  का युवक घायल हो गया है. छात्र को होली फैमिली अस्पताल में भर्ती कराया गया है. शादाब जम्मू के डोडा जिले का रहने वाला है और जामिया में पढ़ाई कर रहा है.

घटना के बाद युवक को गिरफ्तार कर लिया गया है. बताया जा रहा है कि आरोपी युवक गोपाल अपने दोस्त का बदला लेने के लिए आया था. ये दोस्त चंदन गुप्ता है. 26 जनवरी 2018 में कासगंज में तिरंगा यात्रा निकाली जा रही थी. इसी दौरान दो समुदायों में झड़प हो गई थी. तभी वहां फायरिंग हुई जिसमें चंदन गुप्ता को गोली लग गई थी.

Jamia Firing: गोली चलाने से पहले फेसबुक लाइव था आरोपी गोपाल, लिखा- खेल खत्म

ऐसे शुरू हुआ था विवाद
26 जनवरी 2018 को सुबह करीब 10 बजे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) से जुड़े करीब 100 युवा बाइकों पर तिरंगा यात्रा निकाल रहे थे. इसी दौरान उनका काफिला बलराम गेट इलाके की तरफ पहुंचा. ये मुस्लिम बाहुल्य इलाका है. यहां मौजूद नौजवानों और एबीवीपी कार्यकर्ताओं के बीच कहासुनी हो जाती है.

आरोप है कि ये कहासुनी वंदे मातरम कहना होगा और पाकिस्तान से जुड़े नारों को लेकर हुई. इस मुद्दे पर दोनों पक्षों के बीच गहमागहमी इतनी बढ़ गई कि इलाके के लोग जमा होने लगे. कुछ मिनटों में बड़ी संख्या में बलराम गेट इलाके के लोग जमा हो गए.

Jamia firing: पुलिस के सामने 30 सेकेंड तक युवक लहराता रहा पिस्टल…कैमरे में कैद हुआ खौफ का पूरा मंजर, Video

बाद में बाइकों पर आए छात्र नेताओं को वहां से भागना पड़ा. हालात बेहद तनावपूर्ण हो गए. इसी दौरान वहां पत्थरबाजी शुरू हो गई और फायरिंग भी हुई. वहां मौजूद चंदन गुप्ता नाम के युवक को गोली लग गई. चंदन को तुरंत अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.

बेटे के मारे जाने के बाद चंदन के पिता न्याय के लिए धरने पर बैठ गए थे. इस दौरान कासगंज के डीएम समेत आला अधिकारी उन्हें 20 लाख का चेक देने पहुंचे थे. लेकिन उन्होंने इसे लेने से मना कर दिया. परिवार वालों की मांग थी कि उनको पैसा नहीं न्याय चाहिए. वहीं शहर में चंदन चौक भी बनवाना चाहिए. उसके बाद कासगंज में चंदन चौक भी बनवाया गया और योगी सरकार ने उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी भी दी.

Related Posts