जामिया में 5 जनवरी तक छुट्टियां घोषित, सेमेस्टर की सभी परीक्षाएं हुईं स्थगित

जामिया के छात्रों ने 'यूनिवर्सिटी लॉकडाउन' की घोषणा कर रखी है. छात्रों ने शुक्रवार को ही परीक्षाओं का बहिष्कार करने की घोषणा की थी.

जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी ने शनिवार को सभी परीक्षाओं की तारीख आगे के लिए बढ़ा दी है. परीक्षाएं आज से ही शुरू होने वाली थीं. परीक्षाओं की तारीख आगे बढ़ाने का यह फैसला छात्रों द्वारा नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शन को देखते हुए लिया गया है.

जामिया के छात्रों ने ‘यूनिवर्सिटी लॉकडाउन’ की घोषणा कर रखी है. छात्रों ने शुक्रवार को ही परीक्षाओं का बहिष्कार करने की घोषणा की थी. परीक्षाओं की नई तारीखों का ऐलान जल्द ही किया जाएगा.

यूनिवर्सिटी के पीआरओ ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि ‘आज से होने वाली सभी सेमेस्टर की परीक्षाएं आगे ले लिए बढ़ा दी गई हैं.’ साथ ही 16 दिसंबर से अगले साल 5 जनवरी तक के लिए शीतकालीन छुट्टियों की घोषणा कर दी गई है.

विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक कार्यालय की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया, “यूजी व पीजी कोर्स के सभी विषम सेमेस्टर के छात्रों को सूचित किया जाता है कि 14 दिसंबर को होने वाली परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं. स्थगित किए गए पेपरों की अगली तिथि निर्धारित समय से पहले बता दी जाएगी.”

शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया था. पुलिस के द्वारा प्रदर्शनकारी छात्रों को रोकने पर झड़प हो गई थी. इस दौरान प्रदर्शनकारी छात्रों ने पुलिस पर पथराव किया. वहीं, पुलिस ने भी लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले दागे.

ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (एआईएसए) द्वारा शुक्रवार को संसद तक मार्च निकाला गया. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को आगे बढ़ने से रोकने के लिए लाठीचार्ज भी किया. छात्रों-पुलिस के आमने-सामने होने से इस दौरान कई मीडियाकर्मी भी घायल हुए.

विरोध प्रदर्शन के बाद सोशल मीडिया पर कई संदेश प्रसारित किए गए, जिसमें छात्रों से चल रही परीक्षाओं सहित सभी शैक्षणिक गतिविधियों का बहिष्कार करने के लिए कहा गया.

पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किए जाने के बाद कई छात्र घायल हो गए, जिसके बाद उन्हें होली फैमिली अस्पताल में भर्ती कराया गया. स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए लगभग 50 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया और जैतपुर व बदरपुर पुलिस थानों में ले जाया गया.

ये भी पढ़ें-

CAB के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे ओवैसी, डेढ़ दर्जन से ज्यादा याचिकाएं हुईं दाखिल

नागरिकता कानून पर बोले मेघालय के राज्यपाल- ‘जो इसे नहीं चाहते वो चले जाएं नॉर्थ कोरिया’

‘राहुल जिन्ना आपके लिए सही नाम,’ राहुल गांधी के बयान पर बीजेपी का हमला

Related Posts