मल्टी टैलेंटेड हैं Jamia Firing में घायल छात्र शादाब फारूक

शादाब ना‍गरिकता संशोधन कानून (CAA) और NPR यानी नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर को लेकर जामिया में विरोध प्रदर्शन में हो रहे शांति मार्च में शामिल थे, जहां वो आरोपी की गोली का शिकार हो गए.
jamia student Shadab Farooq, मल्टी टैलेंटेड हैं Jamia Firing में घायल छात्र शादाब फारूक

जामिया नगर में नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में चल रहे प्रदर्शन के दौरान 30 जनवरी को अचानक से गोपाल शर्मा नाम का शख्स आया और पिस्तौल लहराने लगा. इसके बाद उस शख्स ने आगे बढ़ कर फायरिंग शुरू कर दी. युवक की फायरिंग से एक शादाब नाम  का युवक घायल हो गया है. गोली शादाब के हाथ में लगी जिसके बाद उसे होली फैमिली अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

कौन है शादाब?

शादाब फारूक जम्मू के डोडा जिले का रहने वाला है और जामिया में पढ़ाई कर रहा है. शादाब एमए मास कम्युनिकेशन में दूसरे सेमेस्टर का स्टूडेंट है. जामिया प्रशासन के मुताबिक शादाब फारूक पढ़ने-लिखने वाले छात्र हैं.

मल्टी टैलेंटेड हैं शादाब

शादाब की रूचि एक्टिंग में भी रही है, इसी के चलते वो ग्रेजुएशन पीरियड में जामिया ड्रामा क्लब के सदस्य भी थे और वो आर्ट में भी इंट्रेस्टेड है. इसके अलावा वो एक बेहतरीन सिंगर और अच्छे वाइस ओवर आर्टिस्ट हैं. फोटोग्राफी के शौकीन शादाब कमाल के फोटोग्राफर हैं. मल्टी टैलेंटेड होने के कारण जामिया कैंपस में फारुक को काफी लोग जानते हैं.

नेकदिल इंसान के तौर पर पहचान

शादाब फारुक के स्वभाव को लेकर जामिया में उनकी तारीफें होती हैं. मॉस कम्युनिकेशन डिपार्टमेंट में शादाब खुशमिजाज, नेकदिल इंसान और दोस्तों में मददगार के तौर पर पहचाने जाते हैं.

शादाब ना‍गरिकता संशोधन कानून (CAA) और NPR यानी नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर को लेकर जामिया में विरोध प्रदर्शन में हो रहे शांति मार्च में शामिल थे, जहां वो आरोपी की गोली का शिकार हो गए.

आओ मैं तुम्हें देता हूं आजादी
जानकारी के मुताबिक फायरिंग करने से पहले यह शख्स जोर-जोर से चिल्ला रहा था, वो कह रहा था, “मैं हूं राम भक्त गोपाल, आओ तुम्हें देता हूं आजादी.” पुलिस अब यह पता कर रही है कि वह प्रदर्शनकारियों में से था या कोई और था. सूत्रों के मुताबिक युवक पिस्टल लहराते वक्त ये भी कह रहा था कि, ‘हिंदुस्तान में रहना है तो वंदे मातरम कहना है.’

Related Posts