Exclusive: वाट्सएप ग्रुप से भड़काई गई जामिया हिंसा, देखें वीडियो

CAA को लेकर राष्ट्रीय राजधानी में रविवार को व्यापक हिंसक प्रदर्शन किया गया. इस दौरान भीड़ ने चार बसों में आग लगा दी और पथराव में दो अग्निशमन कर्मी घायल हो गए.

CAA को लेकर जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के बाहर हो रहे प्रदर्शन को लेकर एक नया खुलासा हुआ है. टीवी 9 भारतवर्ष को मिली इस जानकारी के मुताबिक जामिया छात्रों के एक वाट्सएप ग्रुप में CAA को मुस्लिमों के खिलाफ बताकर आग भड़काई जा रही है.

एक कॉमन फ्रेंड के जरिए जामिया के पूर्व छात्र से बात हुई है. उसका कहना है कि आज सुबह ही एक वाट्सएप ग्रुप बनाया गया है, जिसमें CAB और NRC को मुस्लिमों के खिलाफ बताया गया है. पूर्व छात्र के अनुसार ग्रुप में पल-पल की खबर और लाठी, डंडे और तलवार लेकर सड़क पर उतरने के लिए उकसाया जा रहा है. पहले ये पूर्व छात्र भी बहकावे में आ गया था लेकिन आगजनी के बाद वो डर गया है. वो बाइट देने और बात करने से डर रहा है, उसका कहना है कि मुझे इन्हीं के बीच यहीं रहना है, अगर किसी को पता चला तो मेरी जान को खतरा होगा.

दिल्ली में व्यापक प्रदर्शन, 4 बसों में आग लगाई

नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर राष्ट्रीय राजधानी में रविवार को व्यापक हिंसक प्रदर्शन किया गया. इस दौरान भीड़ ने चार बसों में आग लगा दी और पथराव में दो अग्निशमन कर्मी घायल हो गए. जामिया के छात्र इस विवाद में शामिल नहीं हैं, विश्वविद्यालय संघ ने यह जानकारी दी.

इस आगजनी व विवाद से आश्रम से फ्रेंडस कॉलोनी और कालिंदी कुंज तक दक्षिण दिल्ली क्षेत्र में भारी ट्रैफिक जाम लग गया. प्रदर्शनकारियों ने मथुरा डोर के विपरीत न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी के दोनों रास्तों को जाम कर दिया. दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट किया कि ओखला अंडरपास से सरिता विहार के लिए सभी आवागमन बंद है.

दिल्ली फायर सर्विस के एक अधिकारी ने कहा कि शाम 4.42 बजे एक कॉल मिली कि बसों में आग लगाई जा रही है. अधिकारी ने कहा, “हमने दमकल की चार गाड़ियां भेजी हैं, जिस पर एक हिंसक भीड़ ने हमला किया.” उन्होंने कहा कि हमारा वाहन क्षतिग्रस्त हो गया और दो अग्निशमन कर्मियों को चोटें आईं है. वे अस्पताल में हैं.

हालांकि जामिया के छात्रों ने इस हिंसक प्रदर्शन में अपने शामिल होने को लेकर इनकार किया है. स्टूडेंट कम्युनिटी के मुताबिक उनका प्रदर्शन शांतिपूर्ण है. जो भी हिंसा हो रही है छात्रों ने उसका विरोध किया है.