जम्मू कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश बनते ही LOC में बनाए जा रहे बंकर, अब तक 9 हजार तैयार

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद इंटरनेशनल बॉर्डर और लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) के आस-पास के गांव में रहने वाले नागरिकों के लिए बंकर का काम काफी तेजी से चल रहा है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 4:15 pm, Wed, 6 November 19

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद इंटरनेशनल बॉर्डर और लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) के आस-पास के गांव में रहने वाले नागरिकों के लिए बंकर का काम काफी तेजी से चल रहा है.

दरअसल 2017 में उस वक्त के गृहमंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने एलान किया था लाइन ऑफ कंट्रोल(LOC) और इंटरनेशनल बॉर्डर पर 14450 बनकर बनाए जाएंगे जिसके चलते अभी तक 9000 बंकर बनाए गए हैं. आर एस पुरा, अरनिया, सांबा, कठुआ और लाइन ऑफ कंट्रोल के लगे इलाकों में पुंछ और राजौरी में भी बन कर निर्माण कार्य चल रहा है. बंकरों की कुल लागत 415 करोड़ रुपए हैं.

स्थानीय निवासियों का कहना है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शुक्रगुजार हैं और सरकार से भी काफी खुश हैं कि उनके बारे में यह सब सोचा गया. लोगों की तरफ से सिर्फ एक शिकायत की गई कि जब बनकर निर्माण कार्य चल रहा है तो कभी-कभी बंकर में पानी भी आ जाता है इसका कोई हल निकाला जाए.

जम्मू-कश्मीर का राज्य का दर्जा खत्म हो गया. अब जम्मू-कश्मीर आधिकारिक तौर पर जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के तौर पर दो केंद्र शासित प्रदेशों में बंट गया है. पांच अगस्त को राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटे जाने का ऐलान किया गया था. इसके साथ ही अनुच्छेद 370 के ज्यादात्तर प्रावधानों को हटाने की भी घोषणा की गई थी.

370 के ज्यादात्तर प्रावधानों को हटाने की भी घोषणा की गई थी. गृह मंत्रालय की ओर से बुधवार देर रात जारी अधिसूचना में, मंत्रालय के जम्मू-कश्मीर संभाग ने प्रदेश में केंद्रीय कानूनों को लागू करने समेत कई कदमों की घोषणा की. जम्मू-कश्मीर और लद्दाख केंद्रशासित प्रदेशों की अगुवाई उपराज्यपाल (एलजी) गिरीश चंद्र मुर्मू और आर के माथुर करेंगे.