पंडित नेहरू की गलती की वजह से लद्दाख में घुसा चीन, BJP सांसद नामग्याल ने बोला कांग्रेस पर हमला

नामग्याल ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने ‘फॉरवर्ड पॉलिसी’ अपनाई जिसमें कहा गया कि हमें एक-एक इंच चीन की ओर बढ़ना चाहिए. लेकिन बाद में...

नई दिल्ली: लद्दाख से भारतीय जनता पार्टी के सांसद जमयांग सेरिंग नामग्याल ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला है. नामग्याल ने कहा कि कांग्रेस के शासन में इस क्षेत्र(लद्दाख) को रक्षा नीतियों में उचित तवज्जो नहीं दी गई. उन्होंने कहा कि इसी वजह से चीन ने डेमचोक सेक्टर के उसके इलाके तक कब्जा कर लिया.

नामग्याल ने न्यूज एजेंसी भाषा से कहा, ‘‘पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने ‘फॉरवर्ड पॉलिसी’ अपनाई जिसमें कहा गया कि हमें एक-एक इंच चीन की ओर बढ़ना चाहिए. इसके कार्यान्वयन के दौरान यह ‘बैकवर्ड पॉलिसी’ बन गई. चीनी सेना लगातार हमारे क्षेत्र में घुसपैठ करती चली गई और हम लगातार पीछे हटते चले गए.’’

बता दें कि जमयांग सेरिंग नामग्याल हाल ही में संसद में अनुच्छेद 370 पर जोशीला भाषण देखर चर्चा में आए थे. नामग्याल पहली बार लोकसभा के लिए चुने गए हैं. नामग्याल ने दावा किया कि कांग्रेस सरकारों ने शत्रुतापूर्ण स्थितियों में ‘तुष्टीकरण’ की नीति का पालन करके कश्मीर को बर्बाद कर दिया और लद्दाख को भी काफी क्षति पहुंचाई.

‘कांग्रेस ने लद्दाख पर नहीं दिया तवज्जो’
उन्होंने कहा, ‘‘यही वजह है कि अक्साई चीन पूरी तरह से चीन के नियंत्रण में है. पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के जवान डेमचोक ‘नाला’ तक पहुंच गए क्योंकि लद्दाख को कांग्रेस के 55 वर्षों के शासन में रक्षा नीतियों में उचित तवज्जो नहीं मिली.’’

नामग्याल ने कहा कि तत्कालीन गृह मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा घोषित की गई पुनर्वास परियोजना के क्रियान्वयन से सीमा पर गांवों से पलायन खत्म होगा. जब नरेंद्र मोदी सरकार के नेतृत्व में इन इलाकों में सड़कों, संपर्क, स्कूल और अस्पताल समेत शहर जैसी सुविधाएं मुहैया करायी जाएंगी तो सीमाएं सुरक्षित बन जाएंगी.

उन्होंने कहा, “जब भी कश्मीर में हालात बिगड़ते हैं कांग्रेस विशेष पैकेज की घोषणा करके आक्रोश को शांत करने की कोशिश करतीं. उसने पथराव करने वालों को खुश किया और अलगाववादियों को संरक्षण दिया. न उसकी नीति अच्छी थी और न ही मंशा. उसने कश्मीर को बर्बाद कर दिया और लद्दाख को भी काफी क्षति पहुंचाई.”

‘एक डिग्री कॉलेज है हमारे पास बस’
नामग्याल ने कश्मीर के साथ रहने से लद्दाख को हुए नुकसान का उदाहरण दिया. उन्होंने कहा, ‘‘हमारे पास यहां एक डिग्री कॉलेज है जो कश्मीर विश्वविद्यालय के तहत आता है. अगर किसी नाम में गलती भी होती है तो छात्र को इसे सही कराने के लिए श्रीनगर जाना पड़ता है. अगर कश्मीर में दिक्कत है तो लद्दाखी छात्र को तीन साल का पाठ्यक्रम पूरा करने में पांच साल लग जाते हैं.’’

उन्होंने कहा कि अगर लद्दाख के किसी सरकारी अधिकारी का तबादला या पदोन्नति होती है तो उस कर्मचारी को फाइल आगे बढ़ाने के अनुरोध के लिए श्रीनगर या जम्मू जाना पड़ता था. कुछ लोग कह रहे हैं कि बड़ी मछलियां (बाहरी लोग) छोटी मछलियों को खा जाएंगी. लद्दाख की भूमि उसके लोगों की है. लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद कानून, 1997 के अनुसार भूमि से संबंधित मामले एलएएचडीसी के तहत आते हैं.

ये भी पढ़ें-

आतंकियों के खिलाफ फर्जी FIR दर्ज करा रहा पाकिस्तान, दुनिया के सामने खुल गई पोल

काबुल में आत्मघाती हमला, 63 लोगों की मौत 180 से अधिक घायल

LIVE: पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की तबीयत में सुधार नहीं, शुक्रवार से ही मिलने वालों का लगा है तांता