Jet Airways Crisis: पीएमओ ने बुलाई अर्जेंट मीटिंग

सूत्रों के मुताबिक नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने विभाग के सचिव से जेट एयरवेज से संबंधित मुद्दों की समीक्षा को कहा था उसके बाद यह बैठक बुलाई गई.

नई दिल्ली: जेट एयरवेज इस वक्त बुरे दौर से गुजर रहा है. पीएमओ ने निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी जेट एयरवेज की स्थिति पर विचार-विमर्श के लिए आपात बैठक बुलाई है. इससे पहले संकट से जूझ रहे जेट एयरवेज ने नकदी की कमी के चलते अपने अंतरराष्ट्रीय उड़ान परिचालन को सोमवार तक के लिए निलंबित करने का फैसला किया था.

सूत्रों के मुताबिक नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने विभाग के सचिव से जेट एयरवेज से संबंधित मुद्दों की समीक्षा को कहा था उसके बाद यह बैठक बुलाई गई. संकटग्रस्त जेट एयरवेज गंभीर वित्तीय संकट से जूझ रही है और उसने अपनी कई उड़ानों को भी रद्द कर दिया है और सोमवार तक के लिये अंतरराष्ट्रीय परिचालन भी रोक दिया है.

इससे पहले नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने ट्वीट के जरिए कहा कि उन्होंने नागरिक उड्डयन सचिव को जेट एयरवेज से संबंधित मसलों की समीक्षा करके यात्रियों की असुविधा कम करने के लिए कदम उठाने का निर्देश दिया है. एयरलाइन ने शुक्रवार को इस हफ्ते के अंत तक अपनी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को रद्द करने की घोषणा की है.

ये भी पढ़ें- कर्ज़ में डूबी जेट एयरवेज़ को एक और बड़ा झटका, अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों पर लाल झंडी

अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों के लिए ये है जरूरत 
विमानों की संख्या घटने से अंतर्राष्ट्रीय परिचालन रद्द होने की आशंका गुरुवार को जताई गयी थी. आधिकारिक सूत्रों ने बताया था कि एयरलाइन इस समय सिर्फ 14 विमानों का परिचालन कर रही है, जबकि पिछले सप्ताह कंपनी के परिचालन में 26 विमान थे. नियमों के अनुसार अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों का परिचालन करने के लिए एयरलाइन के पास कम से कम 20 विमान होने चाहिए.

नकदी संकट से जूझ रही जेट एयरवेज
हाल तक एयरलाइन 26 विमानों का परिचालन करती थी जिनमें लंदन, टोरंटो, सिंगापुर, एम्स्टर्डम, पेरिस, बैंकॉक और घरेलू क्षेत्र में मुंबई-दिल्ली व अन्य जगहों की उड़ानों के लिए एयरबस ए-330, बोइंग-777, 737-800 और एटीआर शामिल थे. इन 26 विमानों में से कंपनी के पास 16 विमान हैं. जेट एयरवेज गंभीर नकदी संकट से जूझ रही है जिसके कारण इसका परिचालन प्रभावित हुआ है और कई विमान परिचालन से बाहर हो गए हैं.

ये भी पढ़ें- कर्ज की समस्या में डूबा जेट एयरवेज, बोर्ड के फाउंडर नरेश गोयल और पत्नी अनीता ने दिया इस्तीफा

क्यों रोकनी पड़ी फ्लाइट
एयरलाइन ने शेयर बाजारों को सूचित किया था कि पट्टे पर विमान देने वाली कंपनियों को भुगतान नहीं कर पाने की वजह से उसे अपने दस और विमानों को रोकना पड़ा है. जेट अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में विमान सेवाएं देने वाली सबसे बड़ी घरेलू एयरलाइन रही है. उसके अंतरराष्ट्रीय परिचालन का एम्सटर्डम मुख्य केन्द्र रहा है. मंगलवार को पट्ट किराया का भुगतान नहीं होने के कारण एक एजेंट ने एम्सटर्डम में जेट का विमान अपने कब्जे में ले लिया. इसकी वजह से उस दिन जेट की एम्सटर्डम- मुंबई उड़ान निरस्त हो गई. इसके अलााव कई दूसरी उड़ानें भी रद्द की गई.