शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में राज्यपाल ने फहराया तिरंगा, बोले अनुच्छेद 370 में बदलाव से खुलेंगे रास्ते

शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में बोलते हुए सत्यपाल मलिक ने कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर के लोगों से यह कहना चाहता हूं कि आपकी पहचान खतरे में नहीं है.

नई दिल्ली: 73वें स्वतंत्रता दिवस के मौक़े पर जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में तिरंगा फहराया. इस दौरान उन्होंने परेड में भी हिस्सा लिया. परेड के बाद राज्यपाल ने भारी संख्या में मौजूद कश्मीरियों को संबोधित किया.

इस दौरान राज्यपाल ने कहा कि सुरक्षाबलों की सख्ती के कारण घाटी में आतंकियों ने हार मान ली है. पत्थरबाजी और आतंकी संगठनों में भर्ती में कमी आई है. मेरी सरकार घाटी में कश्मीरी पंडितों की सुरक्षित वापसी के लिए प्रतिबद्ध है.

शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में बोलते हुए सत्यपाल मलिक ने कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर के लोगों से यह कहना चाहता हूं कि आपकी पहचान खतरे में नहीं है. इससे कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है भारत का संविधान हर राज्य के स्थानीयता को फलने-फूलने का मौका देता है.

राज्यपाल ने कहा, ‘केंद्र सरकार की ओर से किया गया अनुच्छेद 370 में बदलाव एक ऐतिहासिक फैसला है. जम्मू-कश्मीर में इससे विकास के नए द्वार खुलेंगे और कश्मीर के लोगों को इसका लाभ मिलेगा.’

हम समस्याओं को न टालते हैं, न पालते हैं : मोदी

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लालकिले की प्राचीर से संबोधन के दौरान कहा कि ‘हम समस्यों को न टालते हैं, न पालते हैं.’

प्रधानमंत्री ने 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए कहा, ”हम समस्याओं को टालते भी नहीं और पालते भी नहीं हैं. अब न टालने का समय है और न ही पालने का समय है. सरकार बनने के 70 दिनों भीतर संसद के दोनों सदनों ने अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाने का निर्णय का अनुमोदन किया.’

मोदी ने कहा, ”देशवासियों ने जो काम दिया, हम उसे पूरा कर रहे हैं.’

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन को लेकर हर सरकार ने कुछ न कुछ प्रयास किया, लेकिन इच्छा के अनुरूप परिणाम नहीं मिले हैं.

मोदी ने कहा, ” जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के सपनों को पंख लगें, यह हम सबकी जिम्मेदारी है.’

प्रधानमंत्री ने कहा, ”जो लोग अनुच्छेद 370 की वकालत कर रहे हैं उनसे देश पूछ रहा है कि अगर यह इतना महत्वपूर्ण था तो इसे आप लोगों ने स्थायी क्यों नहीं किया, अस्थायी क्यों बनाए रखा ?’

उन्होंने कहा, ”नयी सरकार को 10 हफ्ते भी नहीं हुए हैं, लेकिन इस छोटे से कार्यकाल में सभी क्षेत्रों में हर प्रयास को बल दिए गए हैं, हम पूरे समर्पण के साथ सेवारत हैं.’

मोदी ने कहा कि मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाया गया और आतंकवाद के खिलाफ मजबूती से लड़ाई लड़ने के लिए आतंकवाद विरोधी कानून में संशोधन किया गया .