JNU हिंसा : लेफ्ट-राइट दोनों ने बाहर से बुलाए उपद्रवी, पुलिस ने जारी की 37 लोगों की लिस्ट

पुलिस ने वायरल वीडियो के आधार पर छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी घोष सहित जिन 9 लोगों की पहचान की थी, उनके खिलाफ इलेक्ट्रॉनिक, डिजिटल और फॉरेंसिक एविडेंस जुटाए जा रहे हैं.
JNU violence delhi police released list of 37 people, JNU हिंसा : लेफ्ट-राइट दोनों ने बाहर से बुलाए उपद्रवी, पुलिस ने जारी की 37 लोगों की लिस्ट

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी हिंसा मामले में पुलिस ने जिस ‘यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट’ (Unity against LEFT) ग्रुप के 37 लोगों की पहचान की है उनमें 10 लोग बाहरी थे. जांच के दौरान पता चला कि लेफ्ट और राइट दोनों तरफ के छात्रों ने ही हिंसा में बाहरी लोगों की मदद ली थी.

सूत्रों से मिली जानकारी से पता चला है कि पुलिस ने ‘यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट’ (Unity against LEFT) वाट्सऐप ग्रुप के जिन 37 लोगों की पहचान की थी, उसमें 10 लोग बाहरी थे, इनका JNU से कोई वास्ता नहीं था. पुलिस ने जांच में पाया कि लेफ्ट और राइट दोनों तरफ के छात्रों ने ही हिंसा में बाहरी लोगों की मदद ली थी. इन छात्रों ने ही उपद्रवियों को कैंपस में एंट्री दिलाई थी. इस मामले में यूनिवर्सिटी की सिक्योरिटी पर भी पुलिस को शक है.

‘यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट’ ग्रुप के 37 लोगों के नाम

JNU violence delhi police released list of 37 people, JNU हिंसा : लेफ्ट-राइट दोनों ने बाहर से बुलाए उपद्रवी, पुलिस ने जारी की 37 लोगों की लिस्ट

पुलिस ने वायरल वीडियो के आधार पर छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी घोष सहित जिन 9 लोगों की पहचान की थी, उनके खिलाफ इलेक्ट्रॉनिक, डिजिटल और फॉरेंसिक एविडेंस जुटाए जा रहे हैं. जिसके बाद जल्द ही इन सभी को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा.

JNU प्रशासन से भी होगी पूछताछ ?

जानकारी मिली है कि हिंसा के दौरान CCTV खराब होने की वजह से जेएनयू प्रशासन भी जांच के दायरे में आ सकता है. उधर शुक्रवार को ही JNU के तीन प्रोफेसरों ने दिल्ली हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की थी. याचिका में 5 जनवरी को हुई हिंसा के CCTV फुटेज और दूसरे सबूतों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा गया था.

ये भी पढ़ें: आप पाकिस्तान में नहीं हैं- CAA विरोध पर कांग्रेस विधायक से बोले गुजरात विधानसभा स्पीकर

Related Posts