कृषि बिल का समर्थन कर AIADMK ने किसानों को धोखा दिया: कमल हासन

एक बयान जारी कर कमल हासन (Kamal Haasan) ने कहा कि मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी ने विवादित बिलों का समर्थन कर तमिलनाडु के किसानों के साथ धोखा किया है.

अभिनेता कमल हासन (Kamal Haasan) ने कृषि विधेयक का समर्थन देने पर तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी अन्नाद्रमुका (AIADMK) की आलोचना की है और इसे राज्य के किसानों संग धोखा बताया है. कमल हसन ने आगे कहा कि केंद्र सरकार के द्वारा लाए गए ये बिल राज्य के अधिकारों पर हमला है. इससे राज्य की स्वतंत्रता प्रभावित होती है.

कमल हासन ने कहा कि इस बिल से राज्य कुछ नहीं कर सकेंगे, जिसके कारण राज्यों में खतरनाक स्थिति पैदा हो जाएगी. राज्य सरकारें न तो कृषि वस्तुओं का मूल्य घटा-बढ़ा सकेंगी न ही उसकी कमी दूर कर सकेंगी. कमल हासन ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ramnath Kovind) से बिलों को वापस करने का आग्रह किया.

राज्यों में पैदा होगी खतरनाक स्थिति

एक बयान जारी कर कमल हासन ने कहा कि मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी ने विवादित बिलों का समर्थन कर तमिलनाडु के किसानों के साथ धोखा किया है. उन्होंने कहा कि जो किसान आपको सत्ता की कुर्सी पर बिठाते हैं, वो आपको धूल में भी मिला सकते हैं.

यह भी पढ़ें- किसानों से बात किए बिना बदल दिया 40 साल पुराना कानून, बर्बाद हो जाएंगी मंडियां: कांग्रेस

तमिलनाडु में 2021 में विधानसभा के चुनाव होने हें. AIADMK केंद्र की सत्ता में बैठी बीजेपी की सहयोगी पार्टी है. कमल हासन ने कहा कि प्रस्तावित बिल देश के किसी भी हिस्से में माल की आवाजाही की अनुमति देता है.

यह भी पढ़ें- कृषि बिल: किसानों के हित में या विरोध में ? समझिए कृषि विशेषज्ञ डॉक्टर अशोक गुलाटी से

यह खाद्य सुरक्षा के लिए खतरा है और इससे एक खतरनाक स्थिति पैदा होगी, क्योंकि राज्य माल की कमी या उसके बढ़े हुए दामों पर कुछ नहीं कर पाएगा.

बिल कॉर्पोरेट को फायदा देना वाला

उन्होंने कहा कि यह बिल कॉर्पोरेट को नया मालिक और किसानों को उनका गुलाम बना देने वाला है. आवश्यक वस्तुओं की सूची से तेल और दाल के हटाए जाने पर उन्होंने कहा कि इससे सिर्फ जमाखोरी को बढ़ावा मिलेगा.

Related Posts