Kamlesh Tiwari Murder Case: फेसबुक खोलेगा रहस्य

DGP ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जिस रोहित का जिक्र किया था और शक जताया था, वो हत्यारा अशफाक ही था. जो पिछले दो महीने से रोहित सोलंकी बनकर कमलेश से फेसबुक पर चैट करता था. फिर मिलने कि बात की. इसी वजह से कमलेश ने घर मे आने दिया और चाय पानी पिलाया.
Kamlesh Tiwari Murder Case, Kamlesh Tiwari Murder Case: फेसबुक खोलेगा रहस्य

लखनऊ: हिंदू वादी नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड मामले में अब एक नया इनपुट मिला है. एटीएस सूत्रों के मुताबिक, हत्या के आरोपी अशफाक ने साजिश के तहत रोहित सोलंकी नाम से एक फेसबुक प्रोफाइल बनाई थी और इसी के जरिए उसने कमलेश तिवारी से फेसबुक पर दोस्ती बढ़ाई थी.

DGP ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जिस रोहित का जिक्र किया था और शक जताया था, वो हत्यारा अशफाक ही था. जो पिछले दो महीने से रोहित सोलंकी बनकर कमलेश से फेसबुक पर चैट करता था. फिर मिलने कि बात की. इसी वजह से कमलेश ने घर मे आने दिया और चाय पानी पिलाया.

डीजीपी ने गौरव तिवारी का नाम लिया था, जिसने फ़ोन करके कहा था कि आपकी पार्टी में शामिल होकर काम करना चाहते हैं. इसको हिरासत में लेकर पूंछताछ की गई. पुलिस को इसकी कोई संलिप्पता नहीं मिली. लिहाज़ा उसे छोड़ दिया गया. रोहित सोलंकी का कोई ज़िक्र नहीं है और ना ही यूपी पुलिस को कोई जानकारी है.

कमलेश के सोशल मीडिया पर बने प्रोफाइल की पुलिस जांच कर रही थी. जिसमे हाल ही में रोहित सोलंकी का सहित कई प्रोफाइल चेक किये गए थे. शाम 5 बजे तक इस मामले में पुलिस रोहित और अशफाक का कोई लिंक न होने की बात कर रही थी. अभी रोहित नाम से प्रोफाइल अशफाक के ही चलाने की बात कही जा रही है.

सोशल मीडिया पर रोहित, अमरेंद्र इस तरह के कई फर्जी नाम से आईडी होने की खबरें सुबह से चल रही हैं लेकिन वो अपुष्ट है. पुलिस और एसआईटी ऐसी तमाम प्रोफ़ाइल पर काम कर रही हैं लेकिन तस्दीक़ नहीं कर रही है. कमलेश तिवारी के हत्यारे असफाक ने फेसबुक पर रोहित सोलंकी नाम से फ़र्ज़ी आईडी बनाई थी. इस आईडी के जरिये कमलेश तिवारी से दोस्ती बढ़ाई थी.
पार्टी में शामिल होने के लिए भी की थी बात, इसकी पुलिस जांच कर रही है लेकिन अभी तक उसकी सही आईडी नहीं मिली है. बिना फ़ोटो के ख़बर चला सकते हैं. सूत्र के आधार पर दोनों हत्यारों की लोकेशन बीती रात अंबाला में मिली थी.

Related Posts