3 साल की बच्ची से रेप की घटना ने झकझोर दिया था देश को, कोर्ट ने महज 75 दिनों में सुनाई सजा

अहम बात यह रही कि पीड़ित बच्ची ने अपनी नानी की गोद में दरोगा को इशारा कर बताया था कि चोट प्राइवेट पार्ट में लगी है. गुरुवार को स्पेशल पॉक्सो कोर्ट के जज विजय राज सिसौदिया ने दोषी राधेश्याम को उम्रकैद और एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई.

कानपुर: बीती 27 जुलाई को बिठूर क्षेत्र में तीन साल की बच्ची से रेप हुआ था. इस केस का फैसला महज 75 दिनों में आ गया. बच्ची से रेप के दोषी को कोर्ट ने गुरुवार को उम्रकैद और 1 लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है. कानपुर पुलिस के अधिकारियों ने 17 सितंबर को इस मामले में अदालत में चार्जशीट फाइल की थी. लगातार कोशिशों के बाद बीते सोमवार को लखनऊ की फरेंसिक साइंस लैब से डीएनए रिपोर्ट आ गई थी.

पुलिस के अनुसार 27 जुलाई को बिठूर थाना क्षेत्र में रहने वाली महिला की तीन साल की बेटी अपनी नानी के साथ मवेशी चराने खेत गई थी. इस दौरान पड़ोसी खेत मालिक हुकुम राजपूत का साला राधेश्याम बहलाकर बच्ची को खेत में बनी कोठरी में ले गया. शाम करीब 6 बजे नानी ने बच्ची की चीख सुनी तो कोठरी की ओर भागी. वहां राधेश्याम बच्ची से रेप कर कर रहा था. उन्हें देख वह भाग गया. परिवार ने तुरंत पुलिस को सूचना दी.

अहम बात यह रही कि पीड़ित बच्ची ने अपनी नानी की गोद में दरोगा को इशारा कर बताया था कि चोट प्राइवेट पार्ट में लगी है. गुरुवार को स्पेशल पॉक्सो कोर्ट के जज विजय राज सिसौदिया ने दोषी राधेश्याम को उम्रकैद और एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई. जुर्माने की आधी रकम पीड़ित बच्ची को बतौर क्षतिपूर्ति दी जाएगी.

केस के जांच अधिकारी कल्याणपुर के सीओ अजय कुमार के अनुसार, बच्ची से रेप की वारदात ने हर किसी को झकझोर दिया था. सजा के लिए सबसे अहम जरूरत डीएनए टेस्ट था. इसके लिए राधेश्याम की हाफ पैंट पर लगे खून के धब्बे का परीक्षण जरूरी था. कोर्ट से अनुमति ले ली गई थी, लेकिन लखनऊ लैब से रिपोर्ट आने में दो साल तक लगे जाते हैं.

अधिकारियों के प्रयासों और वैज्ञानिकों से निजी निवेदन के कारण जांच जल्दी हुई और बीते सोमवार को रिपोर्ट आ गई. इसमें साबित हुआ कि खून बच्ची का था. यह रिपोर्ट केस में अकाट्य प्रमाण साबित हुई. लखनऊ में खराब मौसम के कारण रिपोर्ट आने में पांच दिन ज्यादा लगे. कल्चर रिपोर्ट के लिए वैज्ञानिक पांच दिन तक धूप निकलने का इंतजार कर रहे थे.