कर्नाटक संकट: सरकार बचाने के लिए कांग्रेस-जेडीएस का ‘ब्रह्मास्त्र’ भी हुआ फेल, बागी बोले- अब नहीं लौटेंगे

कर्नाटक की गठबंधन सरकार पुरजोर प्रयास कर रही है कि किसी भी तरह प्रदेश में सत्ता बरकरार रहे. इसके लिए कांग्रेस और जेडीएस के सीनियर नेताओं ने बागी विधायकों को राजी करने के लिए सीएम कुमारस्वामी के स्थान पर किसी और को लाने का प्रस्ताव पेश किया है.

बेंगलुरु: कर्नाटक में सियासी संकट से उबरने के लिए कांग्रेस-जेडीएस ने आखिरी दांव चला है. गठबंधन सरकार के सीनियर नेताओं ने बागी विधायकों को राजी करने के लिए सीएम कुमारस्वामी के स्थान पर किसी और नेता को सीएम बनाने का प्रस्ताव रखा है.

कर्नाटक की गठबंधन सरकार पुरजोर प्रयास कर रही है कि किसी भी तरह प्रदेश में सत्ता बरकरार रहे. इसके लिए कांग्रेस और जेडीएस के सीनियर नेताओं ने बागी विधायकों को राजी करने के लिए सीएम कुमारस्वामी के स्थान पर किसी और को लाने का प्रस्ताव पेश किया है. हालांकि नेतृत्व के इस प्रस्ताव को कांग्रेस-जेडीएस के बागी विधायकों ने खारिज करते हुए पाले में लौटने से इनकार कर दिया है. विधायकों का कहना है कि वे किसी भी कीमत पर अपना इस्तीफा वापस नहीं लेंगे.

इससे पहले कई बागियों ने अपने इस्तीफे के लिए कुमारस्वामी के नेतृत्व को जिम्मेदार ठहराया था. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने टीवी9 भारतवर्ष से बातचीत के दौरान कहा था कि बागी विधायकों का काम नहीं हो पा रहा है इससे वो नाराज है लेकिन वो ऐसा नहीं करेंगे. वो सब बहुत अच्छे लोग हैं.

हालांकि कर्नाटक प्रदेश के कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने इस बात से इनकार किया है कि जेडीएस ने कांग्रेस को सीएम पद का प्रस्ताव पेश किया है. खबरें थीं कि जेडीएस ने एम. सिद्धारमैया को सीएम बनाने का प्रस्ताव दिया है. इससे पहले रविवार को सूबे के जल संसाधन मंत्री डीके शिवकुमार ने कहा था कि जेडीएस ने सरकार को बचाने के लिए कांग्रेस के लिए सीएम पद का त्याग करने की बात कही है. यही नहीं उन्होंने कहा था कि जेडीएस ने सिद्धारमैया, जी. परमेश्वरम समेत किसी भी नेता को सीएम बनाए जाने को लेकर सहमति जताई है.

फिर भी कांग्रेस का यह दांव भी सफल होता नहीं दिखा है. डीके शिवकुमार के बयान के कुछ देर बाद ही बागी विधायकों ने साफ किया कि वे किसी भी कीमत पर अपना इस्तीफा वापस नहीं लेंगे. मुंबई से विडियो रिलीज कर बागी विधायक बिराथी बसवराज ने कहा, ‘हमारे आत्मसम्मान को चोट पहुंची है. यदि अब सिद्धारमैया भी सीएम बनते हैं, तब भी अब हमारी वापसी की कोई उम्मीद नहीं है.’

बागी बोले, हम बंधन नहीं, मर्जी से रुके यही नहीं बागियों ने कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार के उस दावे का भी खंडन किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि विधायकों को गन पॉइंट पर बंधक बनाकर रखा गया है। यशवंतपुर के विधायक एसटी सोमशंकर ने कहा, ‘हम किसी तरह के बंधन में नहीं हैं, जैसा कि कुछ कांग्रेस के नेता दावा कर रहे हैं। हम कहीं भी आ जा सकते हैं और यहां अपनी इच्छा से हम लोग मौजूद हैं।

Related Posts