कर्नाटक: फ्लोर टेस्ट से पहले स्पीकर ने 14 विधायकों को अयोग्य करार दिया, जाएंगे सुप्रीम कोर्ट

14 विधायकों को अयोग्य करार देने के बाद स्पीकर रमेश कुमार ने कहा कि मैंने कोई चालाकी या ड्रामा नहीं किया, बल्कि सौम्य तरीके से फैसला लिया है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 12:45 pm, Sun, 28 July 19

नई दिल्ली: कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा का सोमवार को फ्लोर टेस्ट होना है.  इससे पहले रविवार को स्पीकर केआर रमेश कुमार ने बड़ा फैसला लेते हुए 14 बागी विधायकों की सदस्यता रद्द कर दी.

इसमें कांग्रेस के 11 और जनता दल (सेकुलर) के 3 विधायक शामिल हैं. इससे पहले स्पीकर ने 3 विधायकों को अयोग्य करार दिया था. यानी अब कुल 17 बागी विधायक अयोग्य करार दिए जा चुके हैं. हालांकि ये 14 विधायक स्पीकर के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं.

14 विधायकों को अयोग्य करार देने के बाद स्पीकर रमेश कुमार ने कहा कि मैंने कोई चालाकी या ड्रामा नहीं किया, बल्कि सौम्य तरीके से फैसला लिया है.

अपनी पार्टियों द्वारा व्हिप जारी किए जाने के बावजूद भी ये विधायक 23 जुलाई को सदन में उपस्थित नहीं हुए थे. 23 जुलाई को जब पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी सदन में विश्वास मत लेकर आए, तब 14 विधायक सदन में उपस्थित होने में विफल रहे, जिसके कारण 6 वोटों से कुमारस्वामी की सरकार गिर गई.

राज्य विधानसभा में नए मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को सोमवार को बहुमत सिद्ध करना है.

17 विधायकों के अयोग्य घोषित होने के बाद कर्नाटक विधानसभा की संख्या 207 रह गई. इस हिसाब से बहुमत का आंकड़ा 104 विधायकों का होगा. एक सदस्य मनोनीत है. कुल संख्या 105 विधायकों की है.

बीजेपी के पास फिलहाल 105 विधायकों का समर्थन है, जैसा कि पिछले ट्रस्ट वोट में कुमारस्वामी के पक्ष में 99 और विपक्ष में 105 वोट पड़े थे.

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने जेडीएस के विधायकों द्वारा राज्य में बनी नई सरकार के समर्थन करने की बात को सिरे से खारिज कर दिया है.

बता दें कि उनकी पार्टी के एक विधायक जीटी देवगौड़ा ने कहा था कि बीजेपी सरकार को जेडीएस के कुछ विधायक अपना समर्थन दे रहे हैं.

देवगौड़ा के इस दावे पर सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने ट्वीट किया कि हमारी पार्टी के कुछ विधायकों द्वारा बीजेपी की नई सरकार को समर्थन देने की बात इन दिनों चर्चाओं में है. मैं आश्वस्त कर देना चाहता हूं कि इस तरह की कोई भी बात पूरी तरह से आधारहीन है. हम कर्नाटक की जनता के लिए अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं और यह आगे भी जारी रहेगी.

और पढ़ें- कर्नाटक: फ्लोर टेस्ट से पहले विधानसभा स्पीकर ने 14 बागी विधायकों को अयोग्य करार दिया