महाराष्‍ट्र में सरकार बनाने में नाकाम रही बीजेपी ने कर्नाटक में कांग्रेस को बड़ा झटका दे दिया

कर्नाटक में 5 दिसंबर को 15 सीटों पर विधानसभा चुनाव होने हैं. अयोग्‍य घोषित किए गए कांग्रेस-जेडीएस के 17 विधायक 14 नवंबर को बीजेपी में शामिल हो जाएंगे.

नई दिल्‍ली: महाराष्‍ट्र में सबसे बड़ी पार्टी होने के बाद भी सरकार बनाने में असफल रही बीजेपी ने कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस को बड़ा झटका दे दिया है.

कर्नाटक में 5 दिसंबर को 15 सीटों पर विधानसभा चुनाव होने हैं. अयोग्‍य घोषित किए गए कांग्रेस-जेडीएस के 17 विधायक 14 नवंबर को बीजेपी में शामिल हो जाएंगे. इस खबर के आने से पहले सुप्रीम कोर्ट ने भी इस मामले में महत्‍वपूर्ण फैसला सुनाया.

अदालत ने विधायकों को अयोग्‍य ठहराए जाने के फैसले को तो सही ठहराया, लेकिन कांग्रेस-जेडीएस के इन बागी विधायकों के लिए राहत भरी खबर यह रही कि वे चुनाव लड़ सकेंगे.

सबसे पहले ये जानते हैं कि इन विधायकों को अयोग्‍य क्‍यों ठहराया गया ?

अयोग्य घोषित विधायकों ने 29 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी. जिन विधायकों को अयोग्य घोषित किया गया है, उनमें कांग्रेस के प्रताप गौड़ा पाटिल, बीसी पाटिल, शिवराम हेब्बर, एसटी सोमशेखर, ब्यराति बासवराज, आनंद सिंह, आर रोशन बेग, मुनिरत्ना, के सुधाकर, एमटीबी नागराज, श्रीमंत पाटिल, रमेश जार्किहोली, महेश कुमाताहल्ली और आर शंकर शामिल हैं. वहीं जेडीएस से एएच विश्वनाथ, गोपालैया और नारायण गौड़ा को भी अयोग्‍य ठहरा दिया गया था.

कर्नाटक में बीएस येदुरप्‍पा ने जब बहुमत साबित किया था, तब ये 17 विधायक विधानसभा नहीं पहुंचे थे. चूंकि इससे पहले कांग्रेस-जेडीएस सरकार राज्‍य में थी और तत्‍कालीन कर्नाटक विधानसभा स्पीकर केआर रमेश ने एचडी कुमारस्वामी सरकार गिरने के दो दिन बाद कार्रवाई करते हुए गुरुवार 17 विधायकों को अयोग्‍य ठहरा दिया था.

कर्नाटक में 224 सीटें हैं. 17 विधायकों को अयोग्य ठहराने के बाद विधानसभा सीटें 207 रह गईं. इस लिहाज से बहुमत के लिए 104 सीटों की जरूरत थी। भाजपा (105) ने एक निर्दलीय के समर्थन से सरकार बना ली.

15 सीटों पर 5 दिसंबर को उपचुनाव कराए जाएंगे। दो सीटों मस्की और राजराजेश्वरी नगर पर कर्नाटक हाईकोर्ट में मामला लंबित है, लिहाजा यहां चुनाव नहीं होंगे. 15 सीटों पर चुनाव होने के बाद विधानसभा में 222 सीटें हो जाएंगी. उस स्थिति में बहुमत का आंकड़ा 111 हो जाएगा.

अब 15 सीटों पर होने जा रहे उपचुनावों में सभी अयोग्‍य विधायक बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे और इनमें से 6 भी चुनाव जीत जाएंगे राज्‍य में बीजेपी सरकार को पूर्ण बहुमत हासिल हो जाएगा.