बस्तर इलाके से बीजेपी के एकलौते विधायक थे, नक्सल हमले में मारे जाने वाले भीमाराम मंडावी

मंडावी आगामी लोकसभा चुनाव का प्रचार खत्म कर लौट रहे थे तभी आईईडी ब्लास्ट में उनकी गाड़ी के परखच्चे उड़ गए

रायपुर: लोकसभा चुनाव के ऐन पहले छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने बीजेपी विधायक भीमाराम मंडावी के काफिले पर हमला कर दिया. इस हमले में विधायक और चार सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई. जानकारी के मुताबिक मंडावी आगामी लोकसभा चुनाव का प्रचार खत्म कर लौट रहे थे तभी आईईडी ब्लास्ट में उनकी गाड़ी के परखच्चे उड़ गए.

बता दें कि भीमाराम मंडावी भारतीय जनता पार्टी के नेता और विधायक थे. साल 2008 में पहली बार विधायक के तौर पर चुन कर आने वाले मंडावी दंतेवाड़ा जिले के गदापाल के रहने वाले थे. गौरतलब है कि पिछले साल हुए छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में वह बस्तर इलाके से एकलौते बीजेपी विधायक थे.

साल 2018 के विधानसभा चुनाव में बस्तर इलाके की कुल 12 में से सिर्फ एक सीट बीजेपी के हिस्से आई थी. बस्तर की उस दंतेवाड़ा सीट पर मंडावी ने ही जीत हासिल की थी. लगातार 15 वर्षों तक सत्ता में रहने के बाद इन्ही विधानसभा चुनाव में बीजेपी को हार का मुंह देखना पड़ा था. हालांकि वह सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी बनकर उभरी. मंडावी छत्तीसगढ़ विधानसभा में बीजेपी विधायक दल के उपनेता थे.

2008 में जीत हासिल करने के बाद मंडावी साल 2013 का विधानसभा चुनाव कांग्रेस के देवती कर्मा से हार गए थे. जिसके बाद साल 2018 के चुनावों में पार्टी ने उनपर फिर से भरोसा जताया और उन्होंने इसबार देवती कर्मा के खिलाफ जीत हासिल की.

मंगलवार को नक्सली हमले में मंडावी के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी शोक जताया. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि मंडावी बीजेपी के एक समर्पित कार्यकर्ता थे.

ये भी पढ़ें: चुनाव से ऐन पहले दंतेवाड़ा में भीषण नक्‍सली हमला, BJP विधायक भीमा मंडावी और चार जवान शहीद