LAC विवाद: डिसएंगेजमेंट को लेकर चीन का ढुलमुल रवैया, भारतीय राजदूत कर रहे हैं लगातार मुलाकातें

पिछले तीन दिनों में चीन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ भारतीय राजदूत विक्रम मिश्री (Vikram Misri) की यह दूसरी बड़ी बैठक थी. इससे पहले उन्होंने सेंट्रल कमेटी फॉरेन अफेयर्स कमीशन के उप-निदेशक लियू जियानचाओ (Liu Jianchao) से मुलाकात की थी.
ambassador vikram misri meet PLA officials, LAC विवाद: डिसएंगेजमेंट को लेकर चीन का ढुलमुल रवैया, भारतीय राजदूत कर रहे हैं लगातार मुलाकातें

चीन (China) में भारतीय राजदूत विक्रम मिश्री (Vikram Misri) ने शुक्रवार को यहां पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के वरिष्ठ अधिकारी से मुलाकात की. इस मुलाकात में विक्रम मिश्री ने उन्हें पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में सीमाओं पर स्थिति के बारे में भारत के रुख पर जानकारी दी. चीन में भारतीय एम्बेसी ने इस मुलाकात की जानकारी एक ट्वीट के जरिए दी, जिसे विक्रम मिश्री ने री-ट्वीट किया है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

भारतीय राजदूत की पीएलए के वरिष्ठ अधिकारी से मुलाकात

ट्वीट में लिखा, ” आज राजदूत विक्रम मिश्री ने सेंट्रल मिलिट्री कमीशन अंतरराष्ट्रीय सैन्य सहयोग के कार्यालय के मेजर जनरल सी गौवेए से मुलाकात की और उन्हें पूर्वी लद्दाख में सीमाओं पर स्थिति के बारे में भारत के रुख के बारे में जानकारी दी.”

मिश्री के साथ हुई इस बैठक में भी चीनी दूतावास के बुलेटिन में बिना साइन किए गए एक आर्टिकल में चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने 15 जून की गलवान हिंसा के लिए भारत को दोषी ठहराया. इतना ही नहीं इसमें भारत को इस घटना की जांच करने के लिए भी कहते हुए कहा कि उल्लंघन करने वालों को जवाबदेह ठहराएं, कड़ाई से सीमावर्ती सैनिकों अनुशासन में रहें और भड़काऊ कृत्यों को तुरंत रोकें. इस पर भारतीय अधिकारियों का कहना है कि यह चीन की अपने कार्यों के लिए भारत को दोषी ठहराने की सामान्य रणनीति है.

विक्रम मिश्री की यह दूसरी बड़ी बैठक

केंद्रीय सैन्य आयोग, जो चीनी सेना की समग्र उच्च कमान है, का नेतृत्व चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग करते हैं. पिछले तीन दिनों में चीन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ भारतीय राजदूत विक्रम मिश्री की यह दूसरी बड़ी बैठक थी. 12 अगस्त को, मिश्री ने कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के सेंट्रल कमेटी फॉरेन अफेयर्स कमीशन के कार्यालय के उप निदेशक लियू जियानचाओ से मुलाकात की थी.

चीन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मिश्री की बैठक उन खबरों की पृष्ठभूमि के खिलाफ आती है, जिनमें कहा गया है कि पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) के साथ दोनों देशों के सैनिकों के बीच डिसएंगेजमेंट प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ी है.

शांति बहाली के लिए चीनी पक्षा ईमानदारी से करे काम

वही चीन के साथ एलएसी की स्थिति पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि भारत और चीन दोनों राजनयिक और सैन्य स्तर पर भारत-चीन के सीमा क्षेत्रों के साथ पूर्ण डिसएंगेजमेंट सुनिश्चित करने की दिशा में लगे हुए हैं. भारत और चीन के विशेष प्रतिनिधियों के बीच समझौते हुआ है कि एलएसी के साथ सैनिकों का शीघ्र और पूर्ण डिसएंगेजमेंट किया जाए.

उन्होंने कहा कि इसके साथ हीनद्विपक्षीय समझौते और प्रोटोकॉल के अनुसार भारत-चीन सीमा क्षेत्रों से डी-एस्केलेशन हो. साथ ही द्विपक्षीय संबंधों के सहज और समग्र विकास के लिए शांति की पूर्ण बहाली की जाए. इसलिए, हम उम्मीद करते हैं कि चीनी पक्ष पूरी ईमानदारी से सीमा क्षेत्रों में शांति की पूर्ण बहाली के उद्देश्य से हमारे साथ काम करेगा.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts