• Home  »  अभी अभीटॉपदेश   »   मिसाइल-बम बरसाएंगे भारत के ड्रोन! चीन को सबक सिखाने के लिए तीन अहम फैसले

मिसाइल-बम बरसाएंगे भारत के ड्रोन! चीन को सबक सिखाने के लिए तीन अहम फैसले

लद्दाख में चीन से चल रहे तनाव (India China Ladakh Clash) के बीच भारत ने बड़ा फैसला लिया है. चीनी ड्रोन सिस्टम को टक्कर देने के लिए भारत ने अपने ड्रोन सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए कमर कस ली है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 8:36 am, Tue, 29 September 20
MQ-9B drone
अमेरिका का MQ-9B ड्रोन

लद्दाख में चीन से चल रहे तनाव (India China Ladakh Clash) के बीच भारत ने बड़ा फैसला लिया है. चीनी ड्रोन सिस्टम को टक्कर देने के लिए भारत ने अपने ड्रोन सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए कमर कस ली है. इसके लिए तीन बड़े फैसले लिए गए हैं. दरअसल, अब भारत को लगने लगा है कि निगरानी वाले सी गार्जियन ड्रोन की जगह पास में हथियारबंद ड्रोन होने चाहिए.

अब भारत मिसाइल लेकर उड़नेवाले ड्रोन के लिए अमेरिका से बात करेगा. वहीं इजरायल से लिए गए ड्रोन सिस्टम को अपग्रेड करवाया जाएगा. इतना ही नहीं डीआरडीओ भी ड्रोन बनाने की शुरुआत करेगा. दरअसल, भारत को ऐसा लगा कि चीनी ड्रोन सिस्टम को टक्कर देने के लिए अपने ड्रोन सिस्टम में ये बदलाव जरूरी हैं.

पढ़ें – भारत को मिला राफेल का दूसरा बैच, पश्चिम बंगाल के कलईकुंडा एयरबेस पर होंगे तैनात

अमेरिका से लिए जाएंगे MQ-9B ड्रोन

अमेरिका से भारत MQ-9B ड्रोन की बात करेगा. यह 2.5 टन तक के हथियार लेकर 40 हजार फीट तक उड़ सकता है. इसमें चाहे तो एयर-टु-एयर मिसाइल या लेजर गाइडेड बम भी रखे जा सकते हैं. खबर के मुताबिक, एक अधिकारी ने बताया है कि इसपर ट्रंप प्रशासन ने बात चल रही है.अमेरिका से कहा गया है कि भारत लेटेस्ट आर्मड ड्रोन लेने का इच्छुक है.

पढ़ें – चीन पर बनेगा भारत का चौतरफा दबाव, बन रही इंडो-पैसिफिक और आसियान की नई नीतियां

दूसरी तरफ भारत इजरायल से बात करेगा. दरअसल, भारत ने इजरायल से मध्यम ऊंचाई वाले Heron ड्रोन खरीदे थे. भारत चाहता है कि अब इजरायल इन्हें अपग्रेड करके इनसे कम्यूनिकेशन के लिए सेटलाइट लिंक्स जोड़े. इससे हाथ के हाथ जानकारी मिलती रहेंगी. इतना ही नहीं भारत का डिफेंस रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) भी मध्यम रेंज वाले ड्रोन और एंटी ड्रोन सिस्टम पर काम करेगा.