नकारात्मक शक्तियों से भारत के राफेल की रक्षा करेगा नींबू, जानिए क्या कहता है ज्योतिष शास्त्र?

ज्योतिष शास्त्रियों का मानना है कि नकारात्मक शक्तियां बलि लेने के बाद ही शांत होती हैं.

rafale, नकारात्मक शक्तियों से भारत के राफेल की रक्षा करेगा नींबू, जानिए क्या कहता है ज्योतिष शास्त्र?

फ्रांस ने मंगलवार को भारत को RB 001 राफेल विमान सौंप दिया. इस दौरान केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल विमान की शस्त्र पूजा की. उन्होंने विमान पर ॐ लिखकर पूजा-अर्चना शुरू की. साथ ही राफेल की टेस्टिंग उड़ान से पहले उसके पहियों के नीचे दो नींबू भी रखे गए. चलिए जानते हैं कि ज्योतिष शास्त्र में धार्मिक रीति-रिवाजों के लिए नींबू का क्या महत्व बताया गया है.

नकारात्मक शक्तियों से रक्षा
ज्योतिष शास्त्र में नींबू का विशेष महत्व है. ज्योतिष में कहा गया है कि नींबू नकारात्मक शक्तियों से रक्षा करता है. इससे व्यक्ति अपने जीवन में कम से कम परेशानियों का सामना करता है. नींबू संकट को टालने के काम आता है. साथ ही बुरी नजर से बचाने के लिए भी नींबू का इस्तेमाल किया जाता है.

ज्योतिष शास्त्रियों का मानना है कि नकारात्मक शक्तियां बलि लेने के बाद ही शांत होती हैं. इसलिए वाहन खरीदते समय पशुओं की बलि की बजाय नींबू या नारियल की बलि दी जाती है. मान्यता है कि नींबू या नारियल की बलि देने से भविष्य में होने वाली दुर्घटनाओं की संभावना बहुत कम हो जाती है.

बुरी नजर से बचाता है नींबू
ज्योतिष में नींबू का इस्तेमाल मिर्च के साथ भी किया जाता है. आपने घर, दुकान या गाड़ियों में नींबू और मिर्च एक साथ टंगा हुआ देखा होगा. कहते हैं कि इससे बुरी नजरों से रक्षा होती है. साथ ही इससे नकारात्मक ऊर्जा घर, दुकान या वाहन में प्रवेश नहीं करती है. व्यक्ति एक सुखमय जीवन जीता है.

गौरतलब है कि राफेल का पहला विमान हासिल करने के बाद राजनाथ सिंह ने कहा कि यह विमान भारत की वायुसेना को और ताकत देगा. उन्होंने कहा, “हमें खुशी है कि राफेल विमान की डिलिवरी सही समय से हो रही है. हमें इस बात की भी खुशी है कि यह विमान हमारी वायुसेना की क्षमता में वृद्धि करेगा.”

ये भी पढ़ें-

सरकार बनाने जा रही 1400 किलोमीटर लंबी ‘ग्रीन वॉल ऑफ इंडिया’, गुजरात से दिल्ली तक होगा निर्माण

यूपी का रहने वाला अल कायदा आतंकी उमर ढेर, PM मोदी को दी थी जान से मारने की धमकी

“अब तक लोकसभा हार के सदमे में है कांग्रेस, शायद राज्‍यों का चुनाव भी ना जीत सके”

Related Posts