भारत की UNGA में पाकिस्तान को लताड़, कहा- इमरान खान ने बेशर्मी से फैलाया झूठ

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री (Pakistan Prime Minister) ने महासभा को संबोधित करते हुए कहा था कि वो अपने पड़ोसियों से शांति चाहते हैं. हथियारों की रेस किसी के लिए भी ठीक नहीं है. कुछ देश अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन कर रहे हैं.

भारतीय संयुक्त राष्ट्र मिशन के प्रथम सचिव मिजितो विनितो

भारत ने पाकिस्तान को यूएनजीए में मज़बूती से जवाब देते हुए उसे खरी-खरी सुनाई है. भारतीय प्रतिनिधि मिजितो विनीतो ने शुक्रवार को 75वें संसुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के अधिवेशन में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के भाषण को झूठ, गलत जानकारी का पुलिंदा बताया.

यूएनजीए में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री (Pakistan Prime Minister) के पहले से रिकॉर्डेड भाषण के दौरान विनीतो वहां से बाहर चले गए. अपने भाषण में एक बार फिर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कश्मीर राग अलापा. इस दौरान इमरान खान ने भारत पर झूठे आरोप मढ़े. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने महासभा को संबोधित करते हुए कहा कि वो अपने पड़ोसियों से शांति चाहते हैं. इमरान खान ने इस मौके पर कहा कि हथियारों की रेस किसी के लिए भी ठीक नहीं है. कुछ देश अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन कर रहे हैं.

कश्मीर भारत का अविभाज्य अंग

यूएनजीए (UNGA) में भारतीय मिशन के पहले सचिव मिजितो विनीतो ने पाक पीएम के भाषण पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर भारत का अभिन्न और अविभाज्य अंग है. केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर में लाए गए नियम और कानून भारत के कड़े आंतरिक मामले हैं. कश्मीर में बचा एकमात्र विवाद कश्मीर के उस हिस्से से संबंधित है जो अभी भी पाकिस्तान के अवैध कब्जे में है. हम पाकिस्तान से उन सभी क्षेत्रों को खाली करने का आह्वान करते हैं जो पाकिस्तान के अवैध कब्जे में हैं.

पाक पीएम ने झूठ और दुर्भावना को फैलाया

संयुक्त राष्ट्र संघ के 75 वें सत्र की उच्च स्तरीय बहस में शुक्रवार को सम्पन्न हुए सभी देशों के भाषणों के बाद पाकिस्तान को ‘राइट ऑफ रिप्लाई’ का प्रयोग करने पर भारत की कड़ी प्रतिक्रिया झेलनी पड़ी. पाकिस्तान को भारत के जवाब के दौरान विनीतो ने कहा कि खान ” ये वही व्यक्ति है जिन्होंने जुलाई में अपनी संसद में आतंकवादी ओसामा बिन लादेन को ‘शहीद’ कहा था. इस हॉल ने ऐसे व्यक्ति की लगातार बात सुनी, जिसके पास दिखाने के लिए कुछ नहीं था, जिसके पास बोलने के लिए कोई उपलब्धि नहीं थी, और दुनिया को देने के लिए कोई सही सुझाव नहीं था. उन्होंने झूठ, गलत सूचना, को गर्मजोशी और दुर्भावना से इस हॉल के जरिए फैलाया.

इन्होंने दुनिया को आतंकवाद दिया

उन्होंने आगे कहा, “पिछले 70 वर्षो में दुनिया को जो एकमात्र गौरव पाकिस्तान ने दिया है, वह है आतंकवाद, नैतिकता का पतन, कट्टरवाद और अवैध परमाणु व्यापार. पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित किए गए आतंकवादियों में से कई की सालों का मेजबानी की. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री वही नेता हैं जिन्होंने पिछले साल खुद सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया था कि पाकिस्तान के पास 30,000 से 40,000 प्रशिक्षित आतंकवादी हैं. यह वह देश है जिसने अपने ईश निंदा कानूनों का दुरुपयोग कर हिंदुओं, ईसाइयों, सिखों और अन्य अल्पसंख्यकों का धर्मांतरण किया.

इतने बेशर्म हैं कि नरसंहार के लिए माफी नहीं मांगी

यह वह देश है जिसने 39 साल पहले दक्षिण एशिया में नरसंहार की शुरुआत करते हुए अपने ही लोगों को मार डाला था. यह वह देश भी है जो इतना बेशर्म है कि इतने सालों बाद भी उस भयावहता के लिए ईमानदारी से माफी भी नहीं मांगी. यह वह देश है जो स्टेट फंड्स से खूंखार और सूचीबद्ध आतंकवादियों को मोटी रकम देता है.

Related Posts