अब आधार कार्ड से जुड़ेगा ड्राइविंग लाइसेंस, तय समय में कराना होगा लिंक

नियम लागू होने के बाद सरकार एक अवधि तय करेगी, उस समय अवधि में ही लाइसेंस को आधार से लिंक करना होगा.

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शनिवार को बताया कि, ‘अब आधार से ड्राइवरिंग लाइसेंस जुड़ेगा. ताकि फर्जीवाड़ा खत्म हो सके. ड्राइवर दुर्घटना के बाद दूसरे राज्य से लाइसेंस बनवाते थे, इसके बाद ऐसा नहीं होगा.’

संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट बिल पहले ही लोकसभा में पास हो चुका है, वहीं जल्द ही इसे राज्यसभा में भी पेश किया जा सकता है. जिसके बाद यह कानून का रूप ले लेगा. इस एक्ट की सबसे बड़ी खास बात यह है कि इसमें रजिस्ट्रेशन और ड्राइविंग लाइसेंस में आधार कार्ड को लिंक करना जरूरी होगा.

क्या हैं फायदे

ड्राइविंग लाइसेस को आधार से लिंक करने के कई फायदे हैं. इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि गैर कानूनी लाइसेंस पर रोक लगेगी. कई लोग एक से ज्यादा ड्राइविंग लाइसेंस रखते हैं, वहीं कानून के मुताबिक एक व्यक्ति केवल एक ही लाइसेंस रख सकता है.

साथ ही, नियम लागू होने के बाद सरकार एक अवधि तय करेगी, जिसके भीतर ही लाइसेंस को आधार से लिंक करना होगा. अगर तय अवधि में लाइलेंस को आधार से लिंक नहीं करते हैं, तो लाइसेंस ऑटोमैटिकली ब्लॉक हो जाएगा. वहीं इससे फेक ड्राइविंग लाइसेंस रखने का वालों का बेहद आसानी से पता लगाया जा सकेगा. किसी हादसे या वाहन चोरी होने की स्थिति में भी लाइसेंस होल्डर का पता लगाया जा सकेगा.