साइक्लोन वायु: NDRF ने खाली कराए समुद्र तट, मोदी बोले- केंद्र बनाए हुए है नजर

वायुसेना के सी-17 एयरक्राफ्ट के जरिए 160 सदस्यों की एनडीआरएफ टीम को जामनगर भेजा गया है. राज्य सरकार ने सेना, एनडीआरएफ, कोस्टगार्ड और अन्य एजेंसियों को राहत के लिए तैनात किया है.

नई दिल्ली: अरब सागर में पैदा हुआ चक्रवाती तूफान ‘वायु’ (Cyclonic Storm Vayu) गुजरात के अब और करीब पहुंच गया है. मौसम विभाग के मुताबिक तूफान 13 जून की सुबह तक गुजरात से टकराएगा. तूफान को देखते हुए गुजरात सरकार ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है. गुजरात के सीएम विजय रुपाणी ने पर्यटकों से किसी सुरक्षित जगह पर जाने के लिए कहा है.

चक्रवात वायु तेजी से गुजरात के तट की ओर बढ़ रहा है. अभी इसका असर मुंबई कोस्ट के आसपास दिखना शुरू भी हो गया है. मुंबई में तेज हवाएं चल रही हैं तो वहीं पेड़ भी गिर रहे हैं. ऐसे में सतर्कता और भी कड़ी कर दी गई है. PM मोदी ने भी ट्वीट कर राज्य सरकार को हर संभव मदद देने की बात कही है.

गुजरात में NDRF की 51 टीमों को तैनात किया गया है, जो हर चुनौती का सामना करने को तैयार हैं. अनुमान है कि बुधवार देर रात या गुरुवार सुबह चक्रवात वायु गुजरात के तट से टकरा सकता है. इस दौरान इसकी रफ्तार 75 किलोमीटर से लेकर अधिकतम 135 किलोमीटर प्रति घंटा रह सकती है. इस चक्रवाती तूफान से निपटने के लिए सरकार ने कमर कस ली है. गुजरात के आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का कहना है कि वायु चक्रवात से प्रभावित 10 इलाकों से अब तक 1,64,090 लोगों को निकाला जा चुका है.

रुपाणी ने आगामी 48 घंटे के दौरान चक्रवात के खतरे को देखते हुए सभी जिला कलेकटर, कर्मचारी व जवानों के अवकाश रद्द कर दिए हैं. वहीं 12 व 13 जून को स्‍कूल, कॉलेज व आंगनवाडी केंद्रों में छुट्टी रखने के आदेश दिए हैं. बताया गया कि  जल,थल व वायू सेना के अधिकारियों के साथ भी संपर्क में हैं, जरूूरत हुई तो उनकी भी मदद ली जाएगी.

गुरुवार सुबह चक्रवात वायु के भीषण तूफान के रूप में पोरबंदर और महुवा के बीच गुजरात तट को पार करने की संभावना है.

– गुजरात के वलसाड में 20 गांवों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. वलसाड के तटीय इलाकों के गांवों में 39 स्‍कूल बंद रहेंगे. आग और बचाव दल भी अलर्ट पर हैं.

– तूफान से सबसे ज्यादा कच्छ, देवभूमि, द्वारका, पोरबंदर, राजकोट, जूनागढ़, दीव, गिर, सोमनाथ, अमरेली और भावनगर जिलों में नुकसान का अनुमान है.

– निगरानी विमान और हेलीकॉप्टर हवाई निगरानी कर रहे हैं. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने नियंत्रण कक्षों को 24 घंटे सक्रिय रहने के निर्देश दिए हैं.

– केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने चक्रवात से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की और महाराष्‍ट्र, गुजरात, गोवा के अधिकारियों को लोगों की सुरक्षा के लिए हरसंभव कदम सुनिश्चित करने का निर्देश दिया.

तटीय इलाकों में एनडीआरएफ की 36 टीमें तैनात

वायुसेना के सी-17 एयरक्राफ्ट के जरिए 160 सदस्यों की एनडीआरएफ टीम को जामनगर भेजा गया है. राज्य सरकार ने सेना, एनडीआरएफ, कोस्टगार्ड और अन्य एजेंसियों को राहत के लिए तैनात किया है. तटीय इलाकों में एनडीआरएफ की 36 टीमें राहत और बचाव कार्य के लिए तैनात रहेंगी. सरकार ने मछुआरों को 13 से 16 जून तक समुद्र में न जाने की हिदायत दी है.

वायु चक्रवात गुजरात के वेरावल से 280 किमी और पोरबंदर से 360 किमी दूर है. गुजरात पहुंचने पर इसकी गति 155-165 किमी प्रति घंटे रहने का अनुमान है.