फर्रुखाबाद: पुलिस मुठभेड़ में मारा गया बच्चों को बंधक बनाने वाला सुभाष बाथम, आजाद हुए सभी बच्चे

फर्रुखाबाद की घटना के बाद यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने बच्चों के बंधक बनाए जाने की घटना की पुष्टि की है. बंधक बनाने वाले शख्स का नाम सुभाष बाथम बताया जा रहा है.
farrukhabad news, फर्रुखाबाद: पुलिस मुठभेड़ में मारा गया बच्चों को बंधक बनाने वाला सुभाष बाथम, आजाद हुए सभी बच्चे

उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद में थाना मोहम्मदाबाद के अंदर ग्राम करथरिया में बच्चों को बंधक बनाने वाले शख्स सुभाष बाथम को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया है. उसने गुरुवार रात 8 बजे के लगभग 20 से ज्यादा बच्चों को बंधक बना लिया था. एडीजी पीवी रामाशास्त्री ने सुभाष के मारे जाने की पुष्टि की है. सभी बच्चे सुरक्षित हैं.

सुभाष क्रेश फायरिंग मे मारा गया है. भारी मात्रा मे बारूद, कारतूस और रायफल बरामद किए हैं. 23 बच्चे सुरक्षित निकले हैं.

यूपी पुलिस की टीम ने बच्चों को सुरक्षित निकालने के लिए पूरा ऑपरेशन किया. सीएम योगी ने पुलिस टीम को बधाई दी है. गृहसचिव के मुताबिक पुलिस टीम को सफल ऑपरेशन करने के लिए 10 लाख रुपये का इनाम और टीम को प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा.

आरोपी की तरफ से फायरिंग की गई- डीजीपी

डीजीपी ओपी सिंह और प्रमुख सचिव गृह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया है कि सुभाष बाथम नाम के आरोपी को पुलिस मुठभेड़ में मार गिराया गया है. एटीएस और एनएसजी की टीम के आने से पहले जब आरोपी ने जब धमकियां देनी शुरू की तो पुलिस ने कार्रवाई शुरू की. इस दौरान आरोपी की तरफ से फायरिंग की गई.

जवाब में पुलिस की तरफ से फायरिंग में आरोपी मारा गया. कुल 23 बच्चे बचाये गए हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रात 8 बजे से लगातार मॉनिटरिंग कर रहे थे. ऐसे में पुलिस टीम को 10 लाख रुपये के पुरस्कार की घोषणा मुख्यमंत्री ने की है.

LIVE UPDATES:

  • पुलिस और प्रशासन के लोग सुभाष बाथम के गांव वालों और रिश्तेदारों से बात करा रहे हैं. बच्चों के लिए तीन लीटर दूध और दो ब्रेड के पैकेट भेजे गए हैं.
  • आई जी कानपुर रेंज मोहित अग्रवाल मौके पर पहुंचे हैं. स्थिति अभी जस की तस है आरोपी अभी कोई बात नहीं कर रहा. सिर्फ एक छोटे बच्चे को छोड़ा है.
  • आरोपी सुभाष बाथम ने प्रार्थना पत्र बाहर भेजा है. पत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना समेत शौचालय न मिलने का आरोप लगाया है. शख्स को कालोनी में मकान भी नहीं मिला, घर भी उसने अपने हाथ से बनाया है.
  • farrukhabad news, फर्रुखाबाद: पुलिस मुठभेड़ में मारा गया बच्चों को बंधक बनाने वाला सुभाष बाथम, आजाद हुए सभी बच्चे
  • एक छोटे से बच्चे को सुभाष ने घर के पीछे के रास्ते से बाहर निकाला है. बच्चा छोटा था उसके मां-बाप लगातार पुलिस के जरिये गुहार लगा रहे थे. 10 महीने के बच्चे को घर से बाहर निकाला गया है.
  • एटीएस कमांडो फर्रुखाबाद पहुंच गए हैं.
  • इस बीच खबर है कि पुलिस ने बंधक बनाए गए एक बच्चे को सुरक्षित बाहर निकाल लिया है.
  • फर्रुखाबाद पुलिस को सीएम योगी आदित्यानाथ ने लताड़ लगाई है. सीएम योगी ने कहा कि पिछले 7 घंटे से पुलिस क्या कर रही है. उन्होंने फर्रुखाबाद के डीएम और एसपी से काफी सख्त लहजे में बात की है.
  • सुभाष बाथम की उम्र 40 साल है. उस पर 4 मुकदमे दर्ज हैं. एक 302 का मुकदमा भी है. सुभाषा का कहना है कि बीजेपी के नेताओं के इशारे पर इसका और इसके परिवार का उत्पीड़न किया गया. पुलिसकर्मी के मुताबिक, बच्चों की संख्या 21 है.
  • यूपी कांग्रेस ने ट्वीट करके घटना पर योगी सरकार पर निशाना साधा है.

  • एडीजी पीवी रामाशास्त्री ने बताया है कि रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. क्विक रिस्पांस टीम (क्यूआरटी) और स्पेशल ऑपरेशन टीम (एसओजी) घटनास्थल पर मौजूद हैं. साथ ही आतंकवाद निरोधी दस्ता (एटीएस) घटनास्थल पर पहुंच रहा है.

  • यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डीजीपी से बात करके मामले की जानकारी ली है. उन्होंने इस मामले पर हाईलेवल मीटिंग बुलाई है.
  •  सीएम योगी ने कहा कि बच्चों और महिलाओं को जल्द छुड़ाया जाए.
  • बंधक बनाए गए बच्चों में आरती पुत्री आनंद, सोनी, रोशनी पुत्री सत्यभान, अरुण, अंजली, लवी पुत्र नरेंद्र, भानु पुत्र मदनपाल, खुशी, मुस्कान, आदित्य पुत्र पंछी, विनीत पुत्र रामकिशोर, पायल, प्रिंटर पुत्र नीरज, प्रशांत, नैनसी पुत्री मुकेश के अलावा मुकेश का भांजा कृष्णा शामिल है.
farrukhabad news, फर्रुखाबाद: पुलिस मुठभेड़ में मारा गया बच्चों को बंधक बनाने वाला सुभाष बाथम, आजाद हुए सभी बच्चे
सिरफिरा सुभाष बाथम.
  • डीजीपी ने बताया कि बच्चों को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहते हैं. युवक कमरे के अंदर से फायरिंग कर रहा है. फायरिंग में दो पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं. बंधक बनाने वाला सजायाफ्ता है.
  • बंधक बनाने वाले शख्स का नाम सुभाष बाथम है.

  • डीजीपी ने यह भी बताया कि सिरफिरा सुभाष लो इंसेनिटी बम से भी बाहर धमाका कर चुका है.
  • सिरफिरा सुभाष लगातार विधायक और अधिकारियों को बुलाने की मांग कर रहा है.
  • बम धमाके से दीवार गिरने के बाद मलबे की चपेट में आकर दो पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.
  • आईजी रेंज मोहित अग्रवाल ने बताया कि बंधक बच्चों को छुड़ाने के लिए एटीएस के कमांडो बुलाए गए हैं. अंदर से कोई मांग नहीं रखी जा रही है.

  • रिपोर्ट के मुताबिक, करीब दो साल पहले सुभाष ने अपने मौसा की हत्या कर दी थी. पुलिस ने उसे जेल भेज दिया था.
  • बच्चों की बंधक बनाने वाला शख्स सुभाष एक साल पहले वह जमानत पर छूटकर बाहर आया था. उसकी एक बेटी भी है जिसकी उम्र 10 साल है.
  • सुभाष ने जन्मदिन के बहाने से बच्चों को बुलाया था और उन्हें बंधक बना लिया.
  • गोली चलाने वाला मंदबुद्धि बताया जा रहा है. फिलहाल प्रशासन के बड़े अधिकारी स्थिति से निपटने में लगे हैं.
  • बंधक बनाए गए बच्चों की उम्र चार से दस साल के बीच बताई जा रही है.
  • जिस शख्स को गोली लगी है वो सिरफिरे को मनाने गया था. वो कह रहे थे कि क्षेत्रीय विधायक तुम्हारी बात सुनने आ रहे हैं, इसी बीच उसने शख्स के पैर पर चला दी.
  • बच्चों के माता-पिता का रो-रोकर बुरा हाल है. स्थिति गंभीर बनी हुई है. प्रशासन अब तक कोई एक्शन नहीं ले पाया है.
  • बच्चों को छुड़ाने गए ग्रामीणों को उसने धमकाया, जिसके बाद ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी.
  • पुलिस बच्चों को छुड़ाने में नाकाम रही. बच्चों को छुड़ाने के लिए एटीएस का कमांडो दस्ता फर्रुखाबाद के लिए रवाना हो गया है.
  • घटनास्थल पर इस वक्त अंधेरा है. पुलिस ने चारों ओर से घर को घेर रखा है.

Related Posts